जम्मू-कश्मीर: कठुआ में बढ़ रहे हैं एड्स के मरीज, हैरान कर देने वाली है ये वजह

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में बढ़ रही स्वास्थ्य सुविधाओं और जागरूकता के बाद बढ़ी स्कैनिंग में एचआईवी पाजिटिव मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ती जा रही हैं। पिछले साल जहां कुल 19 मरीज जिले में एचआईवी पाजीटिव पाए गए थे वहीं इस साल सात माह के भीतर ही 19 मरीजों को पाजीटिव पाया जा चुका है। बनी, बसोहली और हीरानगर के बाद इस साल ज्यादा मामले बिलावर उपजिला से रिपोर्ट हुए हैं।
अप्रैल से नवंबर माह के बीच आईसीटीसी कठुआ में की गई मरीजों की जांच के बाद अबतक 19 लोगों को एचआईवी पाजिटिव पाया गया है। खास बात यह है कि बीते वर्ष जहां कुल 4 हजार के लगभग मरीजों की जांच की गई थी वहीं इस साल 31 सौ से अधिक मरीजों की एचआईवी जांच की जा चुकी है। ऐसे में जहां पहले कम मरीज स्कैन हो पाते थे वहीं अब स्कैनिंग भी बढ़ चुकी है। हैरत इस बात की है कि अब प्रतिमाह लगभग तीन मरीजों को जिले में पाजीटिव पाए जाने लगा है।

एकीकृत परामर्श एंव परीक्षण केंद्र (आईसीटीसी) कठुआ से प्राप्त आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले बारह वर्षों में अबतक 292 लोगों को जिले में एचआईवी पाजिटिव पाया जा चुका है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार स्वास्थ्य मंत्रालय ने जागरूकता कार्यक्रमों के लिए दिए जाने वाली सहयोग राशि को भी देना बंद कर दिया है। ऐसे में विभाग की पहुंच आम लोगों से दूर होती जा रही है।

समाज में खुले तौर पर एड्स के बारे में बात करना आज भी आम लोग शर्म की बात महसूस करते हैं। जरूरत पड़ने पर ही आईसीटीसी सेंटर पहुंचते हैं। एड्स दिवस पर जरूरत है एक बार फिर सरकारी तंत्र को सक्रिय कर आम लोगों तक पहुंचाया जाए ताकि ऐसे मामलों से निपटा जा सके।