भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर लगने वाले चमलियाल मेले में देश भर से पहुंच रहे श्रद्धालु

भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा के दोनों ओर बाबा चमलियाल की मजार पर वीरवार को मेला आयोजित हुआ। हालांकि लगातार दूसरे साल भी पाकिस्तान की ओर से रेंजर दरगाह पर चादर चढ़ाने नहीं आए। बावजूद इसके दरगाह पर हजारों की संख्या में लोग माथा टैक आशीर्वाद लेने आए हुए हैं। यह दरगाह जम्मू से 50 किलोमीटर दूर जिला सांबा में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बिलकुल साथ स्थित है। करीब 200 साल पुरानी बाबा दलीप सिंह मन्हास की इस जियारत से लोग पहले की ही तरह, शक्कर कही जाने वाली मिट्टी और शरबत कहा जाने वाला पानी को लेने के लिए पहुंच रहे हैं। लोगों का मानना है कि इसे लगाने से सारे चर्मरोग दूर हो जाते हैं।

इस मेले में देश के विभिन्न भागों से हजारों की संख्या में लोग हर साल माथा टैकने के लिए आते हैं। वीरवार को गर्मी के बावजूद बड़ी संख्या में लोग सुबह सवेरे ही दरगाह पर माथा टैकने पहुंचने लगे थे। मेला प्रबंधन कमेटी ने भी लोगों के लिए हर प्रकार के प्रबंध किए हुए हैं। मेला सीमा के दोनों ओर लगता है।