कश्मीरी पंडितों के लिए बजट प्रस्तावों की अनदेखी की गई : BJP

जम्मू: जम्मू-कश्मीर भाजपा इकाई के उपाध्यक्ष जी एल रैना ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक द्वारा वर्ष 2018-19 के लिए मंजूर किये गए बजट प्रस्तावों में विस्थापित कश्मीरी पंडितों की “अनदेखी” करने का आरोप लगाया है . रैना ने कहा कि राज्य प्रशासनिक परिषद (एसएसी) द्वारा मंजूर बजट में विस्थापित समुदाय का उल्लेख भी नहीं किया गया है .

उन्होंने कहा,’वर्ष 2018-19 के लिए बजट प्रस्ताव तैयार करते समय विस्थापित अल्पसंख्यक समुदाय कश्मीरी पंडितों (केपी) की राज्य प्रशासन द्वारा पूरी तरह से उपेक्षा बहुत परेशान करने वाला है.’

उन्होंने कहा,’कुछ ऐसे प्रस्ताव जिन्हें पूर्ववर्ती सरकार में मंजूरी दे दी गई थीं और जो कार्यान्वयन प्रक्रिया में थे, उनकी अनदेखी की गयी है. इनमें विस्थापितों के शिविरों में नागरिक सुविधाओं का विस्तार, स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं में विशेष रूप से सुधार, आवश्यक आपूर्ति में सुधार और पेयजल आपूर्ति योजनायें शामिल हैं .’

भाजपा नेता ने कहा कि जगती टाउनशिप, मुथि, पुखू और बुटा नगर में विस्थापित समुदाय के शिविरों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए बजट में कुछ भी नहीं रखा गया है.