राहुल ने जम्मू कश्मीर की राजनीतिक व सुरक्षा की स्थिति की चर्चा की

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर में राजनीतिक और सुरक्षा की स्थिति पर राष्ट्रीय राजधानी में नेताओं के साथ चर्चा की और उनसे विभिन्न मोर्चों पर भाजपा की ‘विफलता’ पर उसके खिलाफ आक्रामक रूख अख्तियार करने को कहा। कांग्रेस के एक प्रवक्ता ने बताया कि गांधी ने शीर्ष नेताओं की दिल्ली में एक बैठक की अध्यक्षता की और जम्मू कश्मीर में समग्र राजनीतिक तथा सुरक्षा की स्थिति पर चर्चा की। बैठक में गुलाम नबी आज़ाद, अम्बिका सोनी, जम्मू कश्मीर के एआईसीसी प्रभारी सचिव केसी वेणुगोपाल, डॉ शकील अहमद और प्रदेश कांग्रेस प्रमुख जी ए मीर ने जैसे नेताओं ने शिरकत की। प्रवक्ता ने बताया कि हाल में हुए लोकसभा चुनाव के नतीजे और आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर राज्य के ताज़ा राजनीतिक हालत पर चर्चा की गयी। राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है और कभी भी चुनाव हो सकते हैं, लेकिन अगले छह महीने के लिए राष्ट्रपति शासन की मियाद को बढ़ा दिया गया है। गांधी ने राज्य के पार्टी नेताओं से लोगों के मुद्दों को उठाने तथा भाजपा की ‘विफलता’ तथा ‘झूठ’ को उजागर करने के लिए कार्यकर्ताओं को विभिन्न स्तर पर सक्रिय करने को कहा। उन्होंने कहा कि नेतृत्व को सभी तीन क्षेत्रों के लोगों के मुद्दों को उठाना चाहिए और विभिन्न मोर्चों पर भाजपा की ‘विफलता’ के खिलाफ आक्रामक रूख अपनाना चाहिए। प्रवक्ता ने बताया गांधी ने नेताओं से यह भी कहा कि लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरनें के लिए केंद्र सरकार एवं भूतपूर्व गठबंधन सरकार की ‘नाकामियों’ को उजागर करें। उन्होंने कहा कि बैठक में सुरक्षा और राजनीतिक स्थिति के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से चर्चा की गयी। साथ में सभी तीनों क्षेत्रों में पार्टी के आधार को मजबूत करने के उपायों पर भी चर्चा की गई।