कठुआ में आज निकाली जाएगी राज्यपाल की शव यात्रा

डेलीवेजरों ने आज शहर में राज्यपाल की शव यात्रा निकालने की पूरी तैयारी की है। पिछले 8 महीने से लगातार लंबित वेतन जारी करने की माग को लेकर पीएचई विभाग के डेलीवेजर्स लगातार काम छोड़ हड़ताल पर हैं लेकिन अभी तक न तो राज्य सरकार के किसी मुख्य अधिकारी ने उनकी लंबित समस्या का समाधान करने का प्रयास किया है और न ही विभाग के अधिकारियों ने उनकी कोई सुध ली है। हालाकि, पिछले 8 महीने में डेलीवेजर्स विभाग के उच्चाधिकारियों के अलावा पूर्व सरकार के मंत्रियों, राज्यपाल के अलावा प्रधानमंत्री को भी अपनी जायज मागों के अवगत करवाने के लिए प्रदर्शन धरना आदि कर चुके हैं लेकिन आज तक सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंगी है। इसके चलते पीएचई के डेलीवेजर्स का लगातार शोषण हो रहा है लेकिन इस शोषण के खिलाफ डेलीवेजर्स अपनी आवाज लगातार जारी रखे हुए हैं। अपने हक के लिए डेलीवेजरों ने परिवार के सदस्यों सहित सरकारी अनदेखी के कारण भीख मागने तक प्रदर्शन किया, यहा तक कि तीन बार शहर में अर्धनग्न होकर भी प्रदर्शन कर सरकार का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास किया, फिर भी सरकार टस से मस नहीं हुई। ऐसे में अब डेलीवेजरों का कहना है कि उनके पास इस सरकार की शव यात्रा निकालने के सिवाय कोई चारा नहीं रहा है क्योंकि उनकी किसी ने सुनवाई नहीं की है। जिसके चलते अब उन्हें पूरा विश्वास हो गया है कि जहां सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। उनके लिए तो सरकार मर चुकी है। अब दुखी होकर शव यात्रा निकालकर अपना प्रदर्शन करके लोगों को उनके साथ हो रहे अन्याय को दर्शाएंगे। ऑल जेएंडके पीएचई डेलीवेजर्स, सीपी वकर्स, इंप्रेस्ड, लैंड डोनर्स यूनियन के प्रधान शिव नारायण सिंह ने कहा कि आठ महीने से विभाग के सरकारी कार्यालय से लेकर सड़कों पर उनका प्रदर्शन लगातार जारी है। उनकी मुख्य माग पिछले 8 महीने से लंबित वेतन को जल्द जारी करने के अलावा कई सालों से अस्थायी रूप से सेवाएं दे रहे कर्मियों को पक्का करना है हालाकि, सरकार ने उनकी मागों को भी जायज करार दिया और समय-समय पर जल्द पूरा करने का आश्वासन भी दिया लेकिन जब समाधान की बात आती है तो सरकार अपने हाथ पीछे कर लेती हैं। किसी तरह से अपन समय पूरा करके चले जाते हैं। विभाग के डेलीवेजर्स अपनी मांग पूरी होने तक लगातार काम छोड़ हड़ताल पर हैं लेकिन अभी तक न तो राज्य सरकार के किसी मुख्य अधिकारी ने उनकी लंबित समस्या का समाधान करने का प्रयास किया है और न ही विभाग के अधिकारियों ने की कोई सुध ली है हालाकि पिछले 8 महीने में डैडी भेजने विभाग के उच्चाधिकारियों के अलावा पुरुस्कार के मंत्रियों राज्यपाल के अलावा प्रधानमंत्री को भी अपनी जायज मागों से अवगत करवाने के लिए शांतिपूवर्क धरना प्रदर्शन कर चुके हैं। उसके बाद भी सरकार ने उनकी नहीं सुनी। ऐसे हालात में उनके लिए जहां सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। इसी के चलते उन्होंने राज्यपाल की पूरे धार्मिक मंत्रोच्चारण एवं हिंदू रीती के अनुसार शव यात्रा निकालने की तैयारी कर ली है।