जम्मू-कश्मीर : चीफ जस्टिस गीता मित्तल ने वकीलों को दी चेतावनी, कठोर कार्यवाही के दिए संकेत

जम्मू-कश्मीर के हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस गीता मित्तल ने स्पष्ट किया है कि वकीलों की मनमानी के मामले में उनके खिलाफ कोर्ट की अवमानना करने की कार्रवाई की जा सकती है. सीनियर एडवोकेट से अपनी वरिष्ठता का सम्मान करने की अपील करते हुए चीफ जस्टिस ने कहा कि कोर्ट ने उन्हें जो सम्मान दिया गया है, उसका पूरा मान रखा जाना चाहिए.

वैसे भी सुप्रीम कोर्ट के स्पष्ट निर्देश हैं कि अगर कोई एडवोकेट हड़ताल पर जाता है, कोर्ट का बहिष्कार करता है, कोर्ट में ताला जड़ता है या दूसरों के प्रवेश पर रोक लगाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. ऐसा करने पर जम्मू-कश्मीर एडवोकेट एक्ट के तहत भी कार्रवाई का प्रावधान है.

चीफ जस्टिस जमीन की रजिस्ट्री के मुद्दे पर जारी हड़ताल के दौरान कुछ वकीलों की मनमानी के संदर्भ में यह बात कही.पुलिस हालात से निपटने में नाकाम, केंद्रीय सुरक्षाबलों को करें तैनात :चीफ जस्टिस ने केंद्र सरकार को जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट की दोनों ¨वग व जिला कोर्ट परिसरों की सुरक्षा का जिम्मा केंद्रीय सुरक्षाबलों को सौंपने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि दोनों ¨वग में सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा स्थानीय पुलिस के सुपुर्द है, लेकिन पुलिस वकीलों को रोकने में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही है.