कोविड-19: जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल ने कई जगहों का दौरा किया

कोविड​​-19 महामारी संकट से निपटने में गड़बड़ी की शिकायतों के बीच जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने लॉकडाउन में छूट दिये जाने के बाद की स्थिति की जमीनी हकीकत का पड़ताल करने के लिए जम्मू में कई स्थानों का दौरा किया। मुख्य सचिव स्वयं जम्मू में कोरोना वायरस स्थिति की निगरानी कर रहे हैं, इसके बावजूद जांच के नमूने के नुकसान, पृथक-वास केंद्रों, भोजन की खराब स्थितियों और बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए व्यवस्था में कमी जैसे कुप्रबंधन की शिकायतें आई हैं। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि लॉकडाउन प्रतिबंधों में छूट दिये जाने के बाद की स्थिति का प्रत्यक्ष मुआयना लेने के लिए उपराज्यपाल ने रेलवे स्टेशन से अपनी यात्रा शुरू की और फिर पूरे जम्मू शहर के प्रमुख स्थानों और बाजारों का दौरा किया। रेलवे स्टेशन पर उपराज्यपाल ने उन लोगों को प्रदान की जा रही सुविधाओं का जायजा लिया जो बाहर फंसे हुए हैं और उन्हें विशेष ट्रेनों के माध्यम से वापस लाया जा रहा है। जम्मू की उपायुक्त सुषमा चौहान ने उपराज्यपाल को बाहर से लौटने वाले लोगों के नमूने लेने की पूरी प्रक्रिया और इसमें शामिल विभिन्न प्रक्रियाओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जमीन पर कुशल ढंग से कार्य सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न स्तरों पर नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। चौहान ने बताया कि अभी तक 10 विशेष ट्रेनों में लगभग 9,000 यात्री जम्मू रेलवे स्टेशन पर उतरे हैं। उपराज्यपाल ने कहा कि सभी एसओपी का कड़ाई से पालन होना चाहिए और यह सुनिश्चित करने पर जोर दिया जाना चाहिए कि लौटने वाले लोगों के ट्रेन से उतरने, उनके नमूने लेने और उन्हें उनके संबंधित जिलों में भेजने की पूरी प्रक्रिया के दौरान दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने वायरस के संक्रमण से बचने के लिए रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के लिए सैनिटाइजर और मास्क की उपलब्धता सुनिश्चित करने और पूरे परिसर को समय-समय पर संक्रमण-मुक्त किये जाने पर जोर दिया।