जैश-ए-मोहम्मद के साथ 31 जनवरी को हुई मुठभेड़ मामले की जांच एनआईए ने अपने हाथ में ली

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू…श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पिछले महीने हुई उस मुठभेड़ मामले की जांच अपने हाथ में ले ली है जिसमें जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गए थे। अधिकारियों ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक अधिसूचना जारी की जिसमें एजेंसी को उन परिस्थितियों की जांच करने का निर्देश दिया गया जिसमें तीन आतंकवादी सांबा में अंतरराष्ट्रीय सीमा के जरिये जम्मू में घुसे थे। रविवार देर रात चलाये गए एक अभियान में तीन ओवरग्राउंड वर्कर्स (ओडीडब्ल्यू) (आतंकवादी संगठनों के सक्रिय सदस्यों) को दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले से 31 जनवरी को हुई मुठभेड़ के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया। अधिकारियों ने बताया कि इनकी पहचान सुहैल जावेद लोन, जहूर अहमद खान और शोएब मंजूर के तौर पर हुई है। लोन जम्मू का छात्र है और समीर अहमद डार से मुलाकात नहीं होने की स्थिति में जैश-ए-मोहम्मद आतंकवादियों के लिए सम्पर्क की दूसरी कड़ी था। डार पिछले साल पुलवामा में आत्मघाती हमला करने वाले का रिश्तेदार है जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। डार घटना के बाद गिरफ्तार पांच व्यक्तियों में शामिल था। उल्लेखनीय है कि 31 जनवरी को बान टोल नाका पर सुरक्षा बलों द्वारा आतंकवादियों को रोके जाने पर एक भीषण मुठभेड़ हुई थी जिसमें आतंकवादी मारे गए थे। घटना में एक पुलिस कान्स्टेबल भी घायल हुआ था।