जम्मू-कश्मीर में सामान्य से 50 फीसदी बढ़ा प्रदूषण, प्रदेश के दो शहरों में बनेंगे खास मॉनिटरिंग स्टेशन

जम्मू-कश्मीर में बढ़ते वायु प्रदूषण के स्तर को मापने के लिए सिविल सचिवालय श्रीनगर में कांटिन्यूअस एंबिएंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन (सीएएक्यूएमएस) स्थापित किया जाएगा। जम्मू विश्वविद्यालय में भी ऐसा उपकरण लगाने की योजना है। पांच साल से जम्मू शहर में वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से 50 फीसदी ऊपर चल रहा है। वर्ष 2018 में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के सर्वे में 102 नॉन अटेनमेंट शहरों में जम्मू और श्रीनगर भी शामिल रहे। इन शहरों में पांच साल से प्रदूषण का स्तर सामान्य से ऊपर रह रहा है। वायु प्रदूषण बढ़ने से शहरवासियों में सांस संबंधी बीमारियों की शिकायत बढ़ी है। 

रेस्पिरेबल सस्पेंडेंड पार्टिक्यूलेट मैटर पीएम 10 (आरएसपीएम, जो प्रदूषण नाक और मुंह के रास्ते शरीर के भीतर जाकर नुकसान पहुंचाता है) का स्तर सामान्य से 40-50 फीसदी ऊपर रहा है। यह सामान्य तौर पर 100 माइक्रोग्राम प्रतिक्यूबिक मीटर होता है। जम्मू में नरवाल, एमए स्टेडियम और बाड़ी ब्राह्मणा केंद्र पर प्रदूषण का स्तर मापा जाता है, जबकि अन्य किसी भी जगह पर जांच केंद्र स्थापित नहीं है।