जम्मू-कश्मीर में अब अंगूठा लगाने पर ही मिलेगा राशन, रुकेगी कालाबाजारी

जम्मू-कश्मीर में अब सरकारी राशन की कालाबाजारी पूरी तरह से बंद हो जाएगी। उपभोक्ताओं को पीओएस (प्वाइंट आफ सेलिंग) मशीनों में अंगूठा लगाने के बाद ही राशन मिल पाएगा। साथ ही इसका डाटा भी ऑनलाइन विभाग के पास जाएगा। इससे कालाबाजारी पर रोक लगेगी। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग ने पीओएस मशीन से आधार लिंक करने का काम 80 फीसदी पूरा कर दिया है। मशीनों में आधार से लिंक उपभोक्ता ही राशन ले पाएंगे। इसके लिए उपभोक्ताओं को मशीन में अपना फिंगर प्रिंट देना होगा। पीओएस मशीन इंटरनेट से कनेक्ट होगी। प्रदेश में अभी 2जी इंटरनेट सेवाएं ही बहाल हैं, इसलिए आधार लिंक का कार्य धीमी गति से हो रहा है।

प्रदेश में राशन कार्ड पर ही राशन वितरित किया जा रहा है। सरकार की ओर से डिपो में राशन तो भेजा जा रहा है मगर पात्र लोगों तक राशन नहीं पहुंच पाता। शहरों में हाल यह है कि राशन ढाबों और दुकानों समेत अन्य अपात्र लोगों को ब्लैक हो जाता है। वहीं, ग्रामीण इलाकों में भी राशन को ब्लैक में ज्यादा बेचा जा रहा है। अनाज की कालाबाजारी रोकने के लिए विभाग अब पीओएस सिस्टम शुरू करने जा रहा है। आधार लिंक उपभोक्ता ही राशन लेने के पात्र होंगे।

विभाग के अधिकारियों का दावा है कि मार्च के अंत तक उपभोक्ताओं को आधार से लिंक कर दिया जाएगा और इंटरनेट सेवाएं बहाल होते ही राशन नई व्यवस्था से दिया जाएगा।