बीएसएफ के महानिदेशक ने जम्मू से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा योजना की समीक्षा की

 सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक एसएस देसवाल ने जम्मू से लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा स्थित अग्रिम चौकियों का दौरा किया और सीमा योजना की समीक्षा की। बीएसएफ ने सोमवार को यह जानकारी दी। बीएसएफ के प्रवक्ता ने बताया कि देसवाल दो दिनों की यात्रा पर 30 मई को यहां आए थे और उन्होंने कोविड-19 की वजह से उत्पन्न परिस्थितियों की भी समीक्षा की एवं जवानों को प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए शारीरिक गतिविधियों में शामिल होने की सलाह दी ताकि वे महामारी का मुकाबला कर सके। प्रवक्ता के मुताबिक देसवाल के साथ बल के अतिरिक्त महानिदेशक एस पंवार, महानिरीक्षक (जम्मू सीमांत) एनएस जामवाल भी मौजूद थे। उन्होंने बताया कि महानिदेशक ने सीमा के अहम इलाकों का दौरा किया और पुलिस अधिकारियों के अलावा विभिन्न सेक्टरों में तैनात टुकड़ियों के कमांडरों से सीमा पर बढ़त बनाए रखने और अन्य सुरक्षा उपायों पर चर्चा की। प्रवक्ता के मुताबिक बल के महानिरीक्षक ने महानिदेशक को मौजूदा परिस्थितियों में जम्मू सीमा के हालात की जानकारी दी। वहीं क्षेत्र में तैनात कमांडरों ने सीमा पर हो रहे विभिन्न निर्माण कार्यों की जानकारी दी और योजना को लागू करने में आ रही परेशानियों को साझा किया। उन्होंने बताया कि बीएसएफ के महानिदेशक ने सीमा बढ़त योजना पर भी चर्चा की। प्रवक्ता ने बताया कि जवानों से संवाद करते हुए महानिदेशक ने धैर्यपूर्ण उनकी समस्याएं सुनी। इस दौरान उन्होंने शरीरिक तंदरुस्ती के महत्व को रेखांकित किया और जवानों को व्यायाम और खेलों में हिस्सा लेने को कहा। प्रवक्ता ने बताया कि उन्होंने ‘ हरित सीमा’ बनाने के इरादे से उन्होंने कई चौकियों पर पौधारोपण किया। उन्होंने कहा कि देसवाल ने सुरक्षा दीवार के आसपास बीएसएफ की मदद से खेती करने के विचार पर बल दिया। बल के जवान किसानों को सुरक्षा प्रदान करते हैं।