पाक सीमा से सटे गांवों के हर घर में बनेंगा बंकर, राज्य सरकार लेकर आई है योजना

केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान की लगातार गोलाबारी को देखते हुए राज्य में पाक सीमा से सटे गांवों की जनता के लिए हर घर में बंकर बनाने की योजना लाई है ताकि आने वाले दिनों में पाकिस्तान की गोलीबारी में और लोगों को नुकसान न हो और ना ही किसी की जान जाए, पिछले सालो के आंकड़े अगर देखे तो साल 2017 में पाकिस्तान द्वारा 167 बार संगर्ष विराम की उल्लंघन करते हुए कई भारतीय सीमा चौकियों के साथ ही स्थानीय लोगों सहित सुरक्षाबलों को अपना निशाना बनाया है. बता दें कि पाकिस्तान ने साल 2016 में 204 बार, 2015 में 305 बार और साल 2014 में 127 बार सीजफायर का उल्लंघन किया है.

वहीं साल 2017 का आंकड़ा अगर देखें तो इसमें 109 लोग अपनी कीमती जान पाकिस्तान द्वारा होने वाली गोलीबारी में गवां चुके है और इसमें अंतर्राष्ट्रीय सीम पर तैनात रहने वाले सीमा सुरक्षाबलों 59 जवान भी शामिल हैं.

इन्हीं सब को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा सीमा पर रहने वालो के लिए हर घर में बंकर बनाने की योजना लाई है ताकि आने वाले समय में किसी को भी अपनी जान न गवानी पड़े. वहीं एक वाकया जिला सांबा के सीमावर्ती गांव चिल्लयारी में देखा गया, जहां 2014 में पाकिस्तान की ओर से आया बम उनके आंगन में गिरा था जिससे एक ही परिवार के तीन सदस्य की मौके पर ही मौत पर हो गई थी. इस हमले में तीन सदस्य गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

 

सरकार की अनदेखी देखे तो उनके घर में भी अभी तक बंकर नहीं बना है जिससे उनके घर के सदस्यो को मायूसी देखने को मिलती है. इस घर में रहने वाले सौदागर मल ने बताया, ‘पूरे गांव में बंकर बनाये जा रहे है लेकिन अभी तक हमारे घरमे कोई भी नहीं आया. हमें वो दिन बार बार याद आता है जिस दिन यह हादसा हुआ था. हम नहीं चाहते कि वो दिन किसी को भी देखने को मिले.’

उधर सांबा के सड़क एवं भवन निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता राजेश कुमार भगत ने बताया कि ज़िले भर के 23 गांवो में बंकर बनाने की प्रक्रिया को शुरू किया है. पूरे ज़िले भर में 2477 बंकर बनाने है जिसकी काम लगातार जारी है और अभी तक 860 बंकर तैयार किये जा चुके है. सौदागर मल के बारे जब पूछा गया तो उन्होंने बताया उन्हें इस चीज़ की कोई जानकारी नहीं है और आपने इसको मेरे सन्दर्भ में लाया तो हम लोग इसे जल्द ही बनवा देंगे. वहीं स्थानीय सरपंच और स्थानीय लोगों ने भी इसकी वकालत करते हुए कहा कि इनके घर में बंकर जल्दी से बनाया जाये ताकि यह लोग भी अपने आप को कभी समाज से अलग ना समझें.