नगरोटा मुठभेड़: सांबा जिले में सुरक्षा बलों ने तलाशी अभियान शुरू किया

जम्मू और कश्मीर के सांबा जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) के आसपास के इलाकों में स्निफर डॉग और मेटल डिटेक्टरों की सहायता से पुलिस और सुरक्षा बलों ने तलाशी अभियान चलाया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। शुक्रवार को एक मुठभेड़ के बाद आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कुछ सक्रिय सदस्यों को गिरफ्तार किया गया था। नगरोटा में हुई इस मुठभेड़ में जैश के तीन आतंकवादियों को मार गिराया गया था। गिरफ्तार सदस्यों से मिली जानकारी के बाद ही यह अभियान चलाया गया। आतंकी संगठन के इन सक्रिय सदस्यों में शामिल समीर डार एक ट्रक में आतंकियों को ले जा रहा था। सीमा सुरक्षा बल(बीएसएफ) और विशेष अभियान समूह(एसओजी) समेत पुलिस और सुरक्षा बलों ने सोमवार सुबह सांबा के बसंतार नाले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के आसपास के इलाकों में तलाशी अभियान चलाया। दल के साथ दो स्निफर डॉग भी थे। अधिकारियों ने बताया कि हथियारों या आईईडी के अन्य जखीरे को इस क्षेत्र में छिपाए जाने की आशंका को लेकर यह तलाशी अभियान चलाया गया। जैश के तीन सक्रिय कार्यकर्ताओं से पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर पुलिस के एक दल और बम निरोधक दस्ते ने शनिवार को आरडीएक्स के साथ लगी आईईडी, ग्रेनेड और अन्य सामग्री को निष्क्रिय किया। इसे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक होर्डिंग के नीचे लगाया गया था। उन्होंने खुलासा किया था कि आतंकियों ने सांबा में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास बसंतार नाले के जरिए जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की थी। जिसके बाद सोमवार को बलों ने तलाशी अभियान शुरू किया। रिपोर्टों के अनुसार गिरफ्तार किए गए तीन सहयोगियों में से एक को पुलिस घटनास्थाल पर घुसपैठ की पुनर्रचना के लिए ले कर गई थी। सूत्रों की मानें तो आतंकवादियों ने चक दलया इलाके में एक रात बिताई थी और सुरक्षा एजेंसियों ने बसंतनार पुल के आसपास रहने वाले लोगों से भी पूछताछ की। पुलिस ने शुक्रवार को जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग के टोल नाके पर जैश ए मोहमम्द के तीन आतंकवादियों को मार गिराया था। ये सभी कश्मीर घाटी की तरफ जा रहे थे। पिछले साल 14 फरवरी को समीर के रिश्ते के भाई आदिल ने पुलवामा में विस्फोटकों से लदी कार को सीआरपीएफ की बस से टकराकर विस्फोट किया था जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे।