जम्मू में विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों ने पर्यवेक्षकों के समक्ष रखा पक्ष

चुनाव आयोग के पर्यवेक्षकों के समक्ष राज्य में विधानसभा चुनाव को लेकर जम्मू के सियासी प्रतिनिधियों ने अलग अलग राय रखी। भाजपा ने विधानसभा चुनाव में मतदाताओं की अधिकतम भागीदारी हो, इसके लिए श्री अमरनाथ यात्रा और नोमेद जनसंख्या को मद्देनजर रखकर फैसला लेने की अपील की। वहीं राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी ने विधानसभा क्षेत्रों के परिसीमन के बाद चुनाव करवाने की मांग की। पीडीपी, कांग्रेस, बसपा, पैंथर्स ने जल्द विधानसभा चुनाव पर जोर दिया। नेशनल कांफ्रेंस ने बैठक का बहिष्कार किया।
होटल रेडिसन ब्लू में चुनाव पर्यवेक्षकों नूर मोहम्मद, विनोद जुत्शी और एपीएस गिल के साथ सियासी दलों के प्रतिनिधियों ने अलग-अलग मुलाकात कर विधानसभा चुनाव पर पार्टी का पक्ष रखा। भाजपा की तरफ से डा. नरेंद्र सिंह और राजेंद्र शर्मा ने पर्यवेक्षकों से मुलाकात की। नरेंद्र ने बताया कि पर्यवेक्षकों से कहा गया कि भाजपा लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव के पक्ष में थी लेकिन चुनाव आयोग ने ऐसा नहीं किया।

अब पार्टी का पक्ष यह है कि श्री अमरनाथ यात्रा होनी है। इसके अलावा नोमेद जनसंख्या मौसम के अनुसार एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट हो जाएगी। विधानसभा चुनाव में ज्यादा से ज्यादा लोगों की भागीदारी हो इसे ध्यान में रखकर ही विधानसभा चुनाव पर फैसला होना चाहिए।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के राज सिंह जमवाल ने विधानसभा क्षेत्रों के परिसीमन के बाद ही विधानसभा चुनाव करवाने पर जोर दिया। कांग्रेस की तरफ से रमण भल्ला और मूला राम ने जल्द विधानसभा चुनाव करवाने पर जोर दिया। पैंथर्स पार्टी की तरफ से बलवंत सिंह मनकोटिया, हर्ष देव सिंह और यशपाल कुंडल ने भी जल्द चुनाव की मांग की। बसपा के एसआर मजोत्रा ने भी जल्द चुनाव करवाए जाने पर जोर दिया। पीडीपी के आर के बाली और नरेंद्र सिंह ने भी जल्द चुनाव की मांग की।