जम्मू कश्मीर: नवंबर माह में बर्फबारी का टूटा 60 साल पुराना रिकॉर्ड

नवंबर के महीने में घाटी में भारी बर्फबारी और रूक-रूक कर बारिश हो रही है, जिससे कश्मीर में आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. श्रीनगर-जम्मू, श्रीनगर-लेह राजमार्गों और यहां की अन्य प्रमुख सड़कों के लगातार बंद होने का कारण बना है. डायरेक्टर मौसम विभाग (MeT), सोनम लोटस ने कहा कि घाटी में सामान्य से 300 फीसदी अधिक बारिश और 76.8 मिमी बर्फ हुई है. इस बार की बर्फबारी में 1959 का रिकॉर्ड टूट गया है. इस बार 12 मिमी ज्यादा बर्फबारी हुई है.

घाटी में नवंबर के महीने में बुधवार को ऊंची पार्वती इलाक़ों में भारी बर्फबारी और मैदानी में हल्की बर्फ़ और भारी मात्रा में बारिश हुई हैं, कश्मीर के सभी क्षेत्रों के मैदानी इलाकों में पिछले दो दिनु से लगातार बारिश और पार्वती इलाक़ों बर्फ़ हो रही है. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि कश्मीर के अधिकांश हिस्सों सहित घाटी के मैदानी इलाकों में रात भर हिमपात हुआ. उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के गुलमर्ग के स्की रिसॉर्ट में रात के दौरान लगभग 24 इंच ताजा बर्फबारी दर्ज की गई.

दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में पहलगाम पर्यटन स्थल में 11 इंच बर्फबारी दर्ज की गई, जबकि काजीगुंड और कोकेरनाग दोनों में पांच इंच और सात इंच बर्फबारी हुई हैं. वहीं श्रीनगर और उसके आसपास के क्षेत्रों में लगभग आधा इंच बर्फबारी दर्ज की गई.

आंकड़ो के मुताबिक़ जोजीला पास, अमरनाथ गुफा, सोनमर्ग, गुरेज और मुगल रोड सहित घाटी के सभी पहाड़ी इलाकों में भारी हिमपात की खबरें हैं. कश्मीर में पर्यटन को इसे बड़ा बड़वा मिला हैं, यहां आए पर्यटक बेहद खुश दिख रहे हैं, वह श्रीनगर के डल झील के किनारे पर्यटक काफी खुश दिख रहे थे. कश्मीर पोहनचे पर्यटक गुलमर्ग और पहलगाम का रूख करते दिखे. आंकड़ों के मुताबिक नवंबर के पहले सप्ताह जब बर्फबारी हुई तब से लेकर अब तक करीब 14000 पर्यटक कश्मीर पहुंच रहे हैं. पर्यटन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि हर दिन कश्मीर 500-600 पर्यटक पहुंचते हैं.

पठानकोट से आए पर्यटक सोरब कुमार ने कहा, ‘कश्मीर में बहुत बर्फबारी हो रही है. काफी सुंदर नजारा है. सभी पर्यटक यहां आएं और सुरक्षित होकर बर्फबारी को एंज्वॉय करें.’ दिल्ली से आए मुहम्मद अफ़शन कहते हैं, ‘हम कई दिनों से यहां हैं, लगभग सभी जगह हम गए बर्फबारी देखी. हमने मौसम का आनंद लिया.’