भ्रष्टाचार: श्रीनगर के डेप्युटी मेयर समेत बैंक और सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज

जम्मू-कश्मीर के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने उपमहापौर शेख इमरान की कंपनी केहवा समूह को अवैध रूप से लाभ पहुंचाने के लिए करोड़ों रुपये की सब्सिडी का गबन करने के मामले में शनिवार को एफआईआर दर्ज की। एफआईआर उपमहापौर, जम्मू-कश्मीर बैंक के अधिकारियों और सरकारी अधिकारियों के खिलाफ एक दर्ज की गई है। बता दें कि शेख इमरान श्रीनगर नगर निगम के उपमहापौर हैं।

एसीबी ने एक बयान में कहा, ‘भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत एफआईआर संख्या 3/2019 एसीबी पुलिस थाना अनंतनाग में दर्ज किया गया है।’मेसर्स केहवा स्क्वेयर प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक शेख इमरान, जेऐंडके बैंक के अधिकारी और अन्य सरकारी अधिकारियों के खिलाफ पुलवामा के लस्सीपोरा में कोल्ड स्टोरेज की स्थापना के लिए बदली गई परियोजना लागत के साथ सब्सिडी के अवैध विनियोग को लेकर मामला दर्ज किया गया है।

सब्सिडी गबन करने का है आरोप
बयान में कहा गया है कि मेसर्स केहवा स्क्वेयर प्राइवेट लिमिटेड ने जम्मू-कश्मीर बैंक के अधिकारियों और राज्य सरकार के कुछ अधिकारियों के साथ मिलकर 16.50 करोड़ रुपये की सरकारी सब्सिडी का गबन करने और विभिन्न लेन-देन के लिए कोल्ड स्टोरेज स्थापित करने की परियोजना लागत को बढ़ाई। एसीबी के अधिकारी ने कहा, ‘समूह को जम्मू-कश्मीर बैंक के साथ 138 करोड़ रुपये का ऋण मिला और 78 करोड़ रुपये का पुनर्गठन किया गया। बैंक अधिकारियों द्वारा एकमुश्त निपटान (ओटीएस) के बाद सरसरी तौर पर सहमति के बाद, समूह की 55 करोड़ रुपये की दूसरी किश्त को घटाकर 27 करोड़ रुपये कर दी गई। इसके बाद उसने बैंक से और रियायतें मांगी।’

उन्होंने कहा, ‘संलिप्त बैंक अधिकारियों और सरकारी अधिकारियों के एक संयुक्त निरीक्षण दल ने केहवा समूह को अनुचित मौद्रिक लाभ प्रदान करने के लिए अपने पद का दुरुपयोग किया और सरकारी खजाने से समूह की अवैध रूप से उचित करोड़ों रुपये की मदद की।’