अनुच्छेद 370 और 35ए पर एकजुट हों सभी दल: फैसल

रियासत की सियासत में अपना कैरियर तलाश रहे पूर्व नौकरशाह और जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट के चेयरमैन डॉ. शाह फैसल ने कहा है कि अनुच्छेद 370 और 35 ए पर राज्य के सभी दलों को एकजुट होना चाहिए। अगर सभी स्थानीय व क्षेत्रीय राजनीतिक दल राज्य के विशेष दर्जे की हिफाजत के लिए एकजुट होकर विधानसभा चुनाव लड़ते हैं तो केंद्र सरकार को इस मुद्दे पर अपनी नीति बदलने के लिए मजबूर किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार एक यथार्थ है। कश्मीरियों को इस सच्चाई को ध्यान में रखते हुए अनुच्छेद 370 और 35ए के संरक्षण के लिए उनके पास अपना एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल भेजना चाहिए।

फैसल ने कहा कि राज्य के सभी राजनीतिक दलों को अपने दलगत मतभेदों को भुलाकर, राज्य के समक्ष संवैधानिक मोर्चे पर आ रही चुनौतियों से निपटने के लिए एकजुट होना होगा। उन्होंने कहा कि अगर अनुच्छेद 35 ए लैंगिक पक्षपात का कारण है, तो केंद्र सरकार से मिलने वाले सर्वदलीय दल को उन्हें बताना होगा कि राज्य में निर्वाचित सरकार गठित होने पर इसमें आवश्यक संशोधन करेगी। इसी तरह अनुच्छेद 370 को लेकर केंद्र सरकार के स्तर पर जो भ्रांतियां हैं, उन्हें दूर किया जाए। केंद्र सरकार समेत उन सभी पक्षों को जो अनुच्छेद 370 के खिलाफ हैं, इसकी अहमियत बताई जाए। उन्हें समझाया जाए कि यही संवैधानिक प्रावधान जम्मू कश्मीर को भारत का हिस्सा बनाता है।