बैंक से धोखाधड़ी कर आइलैंड पर बनाया 8 बेडरूम वाला विला, जम्मू-कश्मीर के पूर्व वित्त मंत्री का बेटा अरेस्ट

ऐंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने जम्मू-कश्मीर के एक पूर्व वित्त मंत्री के बेटे को गिरफ्तार किया है। वह जम्मू-कश्मीर बैंक से 177 करोड़ रुपये के बिजनस लोन की हेराफेरी कर विदेश में संपत्ति खरीदने का आरोपी हैं। इस संपत्ति में दुबई के एक आइलैंड पर आठ बेडरूम वाला विला भी शामिल है। इसी आइलैंड पर अभिनेता शाहरुख खान और फुटबॉलर डेविड बेकहम जैसी हस्तियों की भी संपत्तियां है।
नैशनल कॉन्फ्रेंस से तीन बार विधायक रहे अब्दुल रहीम राथर के बेटे हिलाल अहमद राथर को एसीबी ने जम्मू से गिरफ्तार किया। आरोप है कि 2012 में उमर अब्दुल्ला की सरकार के दौरान हिलाल ने अपने वित्त मंत्री पिता के प्रभाव का इस्तेमाल करके व्यवसाय के नाम पर कई बार लोन लिए। एसीबी के एक प्रवक्ता ने बताया कि हिलाल और उनके बिजनस पार्टनर्स ने इन लोन्स को नरवालबाला के बथंडी में पैराडाइज एवेन्यू टाउनशिप प्रॉजेक्ट के लिए लिया था। लोन के तौर पर ली गई पूरी राशि को कथित रूप से अन्य व्यवसायों, निजी संपत्तियों को खरीदने और विदेश में रॉयल हॉलिडेज में इस्तेमाल कर लिया गया।

अधिकारी के अनुसार, जांच में पता चला है कि पैराडाइज एवेन्यू परियोजना में हिलाल के अलावा श्रीनगर के सनत नगर के रिजवान रहीम डार, बारामुला के गुलाम मोहम्मद भट्ट और जम्मू के दलजीत वढेरा और दीपशिखा जम्वाल भी पार्टनर थे। इनके लिए पहले चरण में 74.27 करोड़ का टर्म लोन मंजूर किया गया था। जम्मू-कश्मीर बैंक की क्रेडिट पॉलिसी की क्रेडिट पॉलिसी को तोड़ते हुए यह लोन मंजूर किया गया था। पॉलिसी के मुताबिक, किसी भी पार्टनरशिप फर्म को सिर्फ 40 करोड़ रुपये तक का ही लोन दिया जा सकता है। अधिकारी ने कहा, पैराडाइज एवेन्यू के मामले में लोन संबंधी नियमों को तोड़कर लोन को जम्मू-कश्मीर बैंक के तत्कालीन बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स द्वारा मंजूरी दी गई थी।

एसीबी ने दावा किया कि उन्हें सबूत मिले हैं कि पैराडाइस एवेन्यू परियोजना के लिए हिलाल और उनके पार्टनर्स के द्वारा लोन की पहली किश्त चुकाने में उनकी विफलता के बावजूद दूसरे लोन अप्रूव किए गए थे। हिलाल सिर्फ जम्मू-कश्मीर बैंक से अवैध रूप से लोन प्राप्त करने और उन्हें न चुकाने के आरोपों का सामना नहीं कर रहे हैं। हिलाल पर आयकर विभाग द्वारा फ़ाइनैंशल मैल्प्रैक्टिस का भी आरोप लगाया गया है। आईटी डिपार्टमेंट ने पिछले साल जून में जम्मू और वैली में हिलाल और उनके सहयोगियों के स्वामित्व वाली कई संपत्तियों पर छापा मारा था।