शिक्षा का बड़ा केंद्र बनेगा जम्मू कश्मीर, पांच जुलाई तक बंद रहेंगे डिग्री कॉलेज

जम्मू कश्मीर में स्मार्ट स्कूल, इंजीनियरिंग कॉलेज, तकनीकी शिक्षा संस्थानों और बहु विषयक कॉलेजों समेत भविष्य की अन्य आवश्यकताओं के अनुरूप मेगा परियोजनाओं पर आधारित शैक्षिक शहर होगा। उच्चतर शैक्षिक संस्थानों में नवाचार एवं उद्यमशीलता प्रकोष्ठ (आइईसी) को प्रोत्साहित किया जाएगा जो स्कूलों व कॉलेजों मे नवाचार व उद्यमिता का पारिस्थितिक तंत्र तैयार करेंगे। प्रत्येक आइईसी को विचार, नवाचार और उद्यमशीलता के आधार पर विभिन्न गतिविधियो के संचालने के लिए निधियों का आबंटन किय जाएगा। यह सब जम्मू कश्मीर को शिक्षा का बड़ा केंद्र बनाने के लक्ष्य से तैयार की जम्मू कश्मीर शिक्षा निवेश नीति 2020 संभव बनाएगी।

जानकारी के अनुसार, स्कूल शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव डॉ. असगर सामून के नेतृत्व में शिक्षा निवेशक नीति 2020 को अमली जामा पहनाने की कार्ययोजना की समीक्षा के लिए बैठक हुई। इसमें विभिन्न विश्वविद्यालयों, शिक्षा विभाग, निजी हितधारकों और अन्य विभागों के अधिकारियों व संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। प्रधान सचिव ने शिक्षा निवेश नीति के विभिन्न ¨बदुओं पर चर्चा करते हुए बताया कि प्रदेश में शिक्षण संस्थानों की स्थापना के लिए भूमि बैंक तैयार किया है। इसमें उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने वाले शिक्षण संस्थानों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। नए निजी स्कूलों/आवासीय स्कूलों/कॉलेजों/ तकनीकी शिक्षा संस्थानों/ विश्वविद्यालयों की स्थापना के निजी निवेशकों को आकर्षितकरने व सभी आवश्यक औपचारिकताओं को आसानी से पूरा करने के लिए सिंगल विंडो क्लीयरेंसं कमेटी बनाई जा रही।