जम्मू-कश्मीर, हिमाचल और उत्तराखंड में भारी बर्फबारी, श्रीनगर में ट्रांसपोर्ट और टेलीफोन सेवाएं ठप

जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बर्फबारी ने दस्तक दे दी है। इन राज्यों में पहाड़ों पर भारी बर्फबारी शुरू हो गई है। इससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जहां यातायात में लोगों को दिक्कत आ रही है वहीं श्रीनगर में यातायात और टेलीफोन सेवाएं ठप हो गई हैं। वहीं दूसरी तरफ मौसम की पहली बर्फबारी से पर्यटकों में खुशी का माहौल है। बता दें कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म होने की घोषणा के बाद पर्वतीय इलाकों में बुधवार को पहली बार इस मौसम की पहली बर्फबारी हुई। कश्मीर घाटी के मशहूर पर्यटन स्थल गुलमर्ग के ऊंचाई वाले स्थानों पर लगभग दो फुट बर्फ गिरी, जबकि तंगदूरी इलाके में 1.5 फुट बर्फबारी हुई। 

मौसम विभाग ने मंगलवार को केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर व लद्दाख में 5 से 8 नवंबर के बीच मौसम बिगड़ने और बर्फबारी की आशंका जताई थी। ताजा बर्फबारी व बारिश से मैदान से पहाड़ों तक तापमान में भारी कमी आई है और घाटी पूरी तरह ठंड की चपेट में आ गई है। उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के मशहूर पर्यटन स्थल गुलमर्ग में बुधवार सुबह ही बर्फबारी शुरू हो गई। 

इस बीच गुलमर्ग में आज लगभग 150 पर्यटकों के पहुंचने से पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों के चेहरे खिल गए हैं। जम्मू में श्री माता वैष्णो देवी के आधार शिविर कटड़ा में बारिश के चलते तापमान में गिरावट आई। बुधवार तड़के सुबह से ही जहां एक ओर श्रीनगर के साथ- साथ घाटी के मैदानी इलाकों में मूसलाधार बारिश शुरू हो गई। 

वहीं, गुलमर्ग के साथ-साथ अन्य ऊपरी इलाकों में बर्फबारी के चलते मैदानी इलाकों में शीत लहर का असर देखने को मिला और लोग सर्दी से बचने के लिए अलाव जलाते नजर आए। गुलमर्ग में अधिकतम और न्यूनतम तापमान माइनस में दर्ज किया गया, जबकि लेह का न्यूनतम तापमान माइनस में दर्ज किया गया। 

  शहर       अधिकतम तापमान        न्यूनतम तापमान
गुलमर्ग      माइनस 0.6                माइनस  2.2
पहलगाम            6.5                           4.5
श्रीनगर            10.5                           5.4
लेह               12.5                  माइनस 3.6
जम्मू             26.8                           17.7
कटड़ा          21.6                            15.2
बनिहाल       17.4                             7.2