Covid19 in J&K: यात्रा इतिहास छिपाने से कश्मीर में बिगड़ रहे हालात, प्रशासन की अपील- मत करें ये गलती

कश्मीर घाटी में अबतक कोरोना वायरस से संक्रमित 29 मामले सामने आए हैं। इनमें से दो की मौत भी हुई है। वहीं अधिकारियों के अनुसार पॉजिटिव मिले इन मामलों में अधिकतर ऐसे हैं, जो पहले से संक्रमित मरीज के संपर्क में आए थे। इस बीच प्रशासन बार-बार लोगों से सामाजिक दूरी बनाए रखने और अपनी ट्रैवल हिस्ट्री नहीं छिपाने की अपील कर रहा है। अधिकारियों का मानना है कि यात्रा इतिहास छिपाने के कारण ही अचानक से इतने मामले सामने आए हैं।
घाटी का पहला मामला श्रीनगर के खानयार इलाके में आया था, जहां 67 वर्षीय महिला सऊदी अरब से उमराह कर लौटी थी। 18 मार्च को वह पॉजिटिव पाई गई थी। उसके बारे में बताया गया था कि वह 16 मार्च को श्रीनगर पहुंची थी।

लेकिन सवाल खड़ा होता है कि अगर वो पॉजिटिव पाई गई तो क्या जिस दिन उसकी एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग हुई, तब उसमें कोविड 19 के कोई लक्षण नहीं पाए गए। वहीं इसके बाद से कश्मीर में पॉजिटिव मामलों का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इसके बाद एक अन्य मामला भी पॉजिटिव पाया गया, जो बताया जा रहा है कि इस महिला के साथ ही जहाज में ट्रैवल कर चुका था।

इस बीच 25 मार्च को चार लोग पॉजिटिव पाए गए, जो एक धार्मिक मंडली के साथ विदेश की यात्रा कर लौटे थे, जिनमें एक 65 वर्षीय बुजुर्ग भी था। वह उत्तरी कश्मीर के सोपोर का निवासी था और हैदरपोरा में रह रहा था। बाद में उसकी मौत हो गई।