जम्मू-कश्मीर और लद्दाख 31 अक्तूबर के बाद केंद्र शासित राज्य में बदल जाएंगे

नए साल की शुरुआत तक जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सभी घरों में रसोई गैस कनेक्शन होगा। इसके लिए सरकार विशेष अभियान शुरू कर रही है। इसके तहत अगले दो माह यानी दिसंबर के आखिर तक सभी घरों में गैस कनेक्शन पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है।
पेट्रोलियम मंत्रालय के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में कुल 22 जिले हैं। इनमें से 17 जिलों में करीब सौ फीसदी एलपीजी कवरेज है। मगर, पांच जिलों में रसोई गैस कनेक्शन कम हैं। इनमें से ज्यादातर क्षेत्र आतंकवाद से प्रभावित हैं। ऐसे में इन जिलों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।
मंत्रालय का कहना है कि अगले दो माह के अंदर इन सभी पांच जिलों में भी एलपीजी कवरेज सौ फीसदी हो जाएगा। इसको लेकर मंत्रालय लगातार सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों के साथ तालमेल बनाए हुए है। मंत्रालय के उच्च अधिकारी संबंधित अधिकारियों के साथ इस योजना को लेकर समीक्षा बैठक कर रहे हैं।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में सर्दियों के दौरान रसोई गैस की मांग बढ़ जाती है। इसलिए, गैस की आपूर्ति बनाए रखने के सभी जरूरी उपाय किए जा रहे हैं। प्रदेश में प्रतिदिन पच्चीस हजार गैस सिलेंडर भेजे जा रहे हैं।