आतंकियों के आईईडी हमलों से निपटने के तरीके में हो रहा बदलाव- ले. जनरल रणबीर सिंह

उत्तरी कमान के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह का दावा है कि राज्य में आतंकवादियों के पैर उखड़ चुके हैं। आमने-सामने की लड़ाई में सुरक्षाबलों के सामने वह टिक नहीं पा रहे हैं। यही नहीं, अपने ठिकानों से जब भी वे निकलते हैं, मारे जाते हैं। इसलिए आतंकी अब सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए आईईडी का इस्तेमाल अधिक कर रहे हैं। इसलिए इससे निपटने के तरीके में सेना बदलाव कर रही है।

कारगिल में रविवार को एक कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत में सिंह ने कहा कि आतंकी आईईडी लगाकर भाग निकलते हैं। यह उनके लिए काफी सहूलियत भरा काम होता है। हमारे पास इससे निपटने के लिए पहले से रणनीति है कि आतंकियों को मार गिराया जाए। हमारी ऑपरेशन सूचनाओं पर चल रहे हैं। हम इसमें कामयाब भी हो रहे हैं।

पुलवामा में आईईडी हमले के बाद सेना के जवानों की ट्रेनिंग और उनको दी गई तकनीकी में बदलाव किए जा रहे हैं। इससे हम आतंकियों के आईईडी हमलों का सामना बेहतर ढंग से कर सकेंगे। हालांकि हमारे बम निरोधक दस्ते हैं और डॉग स्क्वाएड भी है। इनसे हम आईईडी को खोज सकते हैं। कई ऐसे आतंकियों के प्रयास हमने इनकी मदद से विफल भी किए हैं।