घाटी में धमकी भरे पोस्टर लगाने के आरोप में कई लोग गिरफ्तार, आतंकी कनेक्शन का शक

जम्मू-कश्मीर में स्थानीय लोगों को धमकाने के लिए विवादित पोस्टर लगाने वाले कुछ लोगों को राज्य पुलिस ने गिरफ्तार किया है। स्थानीय दुकानदारों और लोगों को धमकाने के लिए यह लोग घाटी के अलग-अलग इलाकों में धमकी भरे पोस्टर लगाते थे। पुलिस ने आतंकी संगठनों से जुड़े होने के शक में सभी को गिरफ्तार किया है और अब इनसे कड़ी पूछताछ की जा रही है।

गिरफ्तारियों के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी स्वयं प्रकाश ने बताया कि पुलिस को पूर्व में इन लोगों के बारे में इनपुट्स मिले थे। इसमें से कुछ उपद्रवी युवक हैं, जबकि कुछ के आतंकी संगठनों से जुड़े होने का शक है। पुलिस आधिकारी ने कहा कि श्रीनगर सहित घाटी के विभिन्न स्थानों से कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया, ‘इनमें से कई मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया गया है और इसमें शामिल कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार व्यक्तियों में सोपोर, अवंतिपोरा और श्रीनगर स्थित चार-पांच प्रमुख मॉड्यूल के व्यक्ति शामिल हैं।’

पोस्टर लगने के बाद घाटी में फिर से बंदी
बता दें कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद से ही घाटी में तनावपूर्ण हालात थे, जिनमें बीते कुछ दिनों में काफी सुधार हुआ था। घाटी में तीन महीने तक बंद के बाद जनजीवन पिछले कुछ हफ्तों से वापस पटरी पर लौट रहा था लेकिन यहां के कुछ स्थानों पर दुकानदारों एवं स्थानीय ट्रांसपोर्टरों को धमकी देने वाले पोस्टर चिपकाए जाने के बाद बुधवार से फिर से बंद शुरू हो गया।

बंद के कारण कश्मीर में जनजीवन प्रभावित
अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर शहर और अन्य स्थानों पर अधिकतर दुकानें, फ्यूल स्टेशन और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान शनिवार को चौथे दिन भी बंद रहे। उन्होंने बताया कि फिलहाल घाटी के कई जिलों में सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। साथ ही प्रीपेड मोबाइल फोन एवं सभी इंटरनेट सेवाएं पांच अगस्त से ही बंद हैं।