श्रीनगर: जमीन हड़पने के आरोपों को मुनीर खान ने किया खारिज, बोले- बदनाम करना है मकसद

श्रीनगर जम्मू-कश्मीर कैडर के आईपीएस अधिकारी मुनीर खान ने कहा है कि उनके खिलाफ जमीन हड़पने के आरोप का लगाया जाना बदनाम करने के अभियान का हिस्सा है। यह आरोप प्रशिक्षण और कार्मिक विभाग द्वारा मुनीर खान को एक साल का विस्तार दिए जाने के तुरंत बाद लगाया गया है। वर्तमान में राज्य में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) कानून-व्यवस्था और सुरक्षा के पद पर तैनात खान ने सोमवार को आरोपों को खारिज किया।

मुनीर खान 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले थे। उन्हें सेवा विस्तार दिया गया है। खान ने कहा कि उच्च सुरक्षा वाले गुपकर रोड इलाके में भूमि का हिस्सा, जिसे लेकर सवाल उठाया जा रहा है, उनकी पत्नी के नाम से खरीदा गया है। इस इलाके में भूमि लेने की वजह यह है कि सेवानिवृत्त होने के बाद उनके परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके। आतंकवाद के खिलाफ कई कार्रवाइयों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके खान ने कहा, ‘क्या यह महत्वपूर्ण नहीं है कि सेवानिवृत्त होने के बाद मेरे और मेरे परिवार के पास रहने के लिए एक सुरक्षित जगह हो? मेरी पत्नी के नाम पर जमीन का जो हिस्सा खरीदा गया है, उसे हमने जम्मू में अपनी पैतृक संपत्ति को बेचने के बाद खरीदा है और सभी कानूनी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद खरीदा है।’

मुनीर खान का राज्य में विभिन्न कार्यभार को निभाते हुए शानदार करियर रहा है। इसमें कश्मीर में आतंकवाद रोधी ड्यूटी भी शामिल है। मुनीर खान ने उच्च न्यायालय के आदेश, जिला और सत्र अदालत श्रीनगर के निर्देश, राजस्व रेकॉर्ड की वैधता की जांच करने वाली बहु-विभागीय समिति के निष्कर्ष और अन्य दस्तावेज साझा किए जो अधिकारी या उनके परिवार द्वारा किसी तरह से भूमि हड़पने का संकेत नहीं देते हैं।

मुनीर खान के खिलाफ आरोप मीडिया में बीते सप्ताह सामने आए जिसमें कहा गया कि गुपकर रोड की जो जमीन खान के घर के निर्माण के लिए ली गई है वह स्टेट कस्टोडियन डिपार्टमेंट की है। उच्च न्यायालय में दायर एक याचिका को खान द्वारा किसी तरह के निर्माण को अनुमति देने से पहले बादामी बाग छावनी बोर्ड और दूसरी संबंधित एजेंसियों द्वारा जमीन के अधिकार के सत्यापन के निर्देश के बाद समाप्त कर दिया गया।