कंधार विमान हाईजैकिंग में अजहर के साथ छोड़ा गया यह आतंकी हो सकता है अनंतनाग हमले का मास्टरमाइंड

ख़ुफ़िया एजेंसियों को शक है कि इस महीने बुधवार को हुए अनंतनाग में सीआरपीएफ पर हमले का मास्टरमाइंड आतंकी मुश्ताक़ अहमद जरगर हो सकता है. अनंतनाग में हुए हमले में सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए थे और जम्मू कश्मीर पुलिस के तीन जवान घायल हो गए था. इस हमले की जिम्मेदारी अल उमर मुजाहिदीन (एयूएम )नाम के संगठन ने ली है जिसका हेड मुश्ताक़ अहमद ज़रगर है.

ख़ुफ़िया एजेंसियों जो शक है कि पाकिस्तान की आईएसआई की मदद से ज़रगर ने जैश और हिजबुल के आतंकियो से हमला कराया है.

केंद्रीय सुरक्षा में तैनात एक अधिकारी के मुताबिक अल उमर मुजाहिदीन का कश्मीर में नेटवर्क नही के बराबर है और हो सकता है कि उसने इस हमले के लिए जैश और हिजबुल की मदद ली हो.देखा जाए तो इस साल 14 फरवरी को पुलवामा में हुए सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले में जिसमे 40 जवान शहीद हो गए थे उसके बाद सीआरपीएफपर अब तक का ये सबसे बड़ा हमला हुआ है .

मुश्ताक़ अहमद ज़रगर कश्मीर आतंकी है जिसे इंडियन एयरलाइन्स आईसी 814 की हाईजैकिंग के बदले भारत ने रिहा किया था. ज़रगर के साथ जैश का चीफ मौलाना मसूद अजहर और उमर सईद शेख को भारत ने रिहा किया था.

ज़रगर के बारे में ख़ुफ़िया एजेंसीज को शक है कि वो बालाकोट के जैश  टेरर कैम्प में भी आतंकियो की ट्रेनिंग में शामिल रहा है. भारत ने पुलवामा हमले के बाद बालाकोट के इसी कैम्प पर सर्जिकल स्ट्राइक किया था.