नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कश्मीर में राजनीतिक नेताओं की रिहाई की मांग की

 जम्मू-कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस ने सभी राजनीतिक नेताओं की रिहाई और राजनीतिक गतिविधियों को बहाल किए जाने की अपनी मांग दोहराई। राजनीतिक नेताओं को हिरासत में लिए जाने को ‘‘अप्रत्याशित और अलोकतांत्रिक’’ बताते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस के सचिव रतन लाल गुप्ता ने कहा केंद्र द्वारा जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले धारा 370 के प्रावधानों को रद्द करने के बाद पांच अगस्त से जिन नेताओं और अन्य लोगों को हिरासत में रखा गया है, उन्हें रिहा करना ही चाहिए। राज्य के तीन पूर्व मुख्यमंत्री नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला, और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती उन प्रमुख राजनेताओं में शामिल हैं, जो इस समय हिरासत में हैं। गुप्ता ने एक बयान में कहा, ‘‘राजनीतिक नेताओं को हिरासत में लिया जाना देश के लोकतांत्रिक चरित्र के खिलाफ है।’’ उन्होंने हाल में हुई बर्फबारी से फसल को हुए नुकसान के लिए एक सर्वेक्षण कराए जाने और प्रभावित लोगों को अंतरिम राहत देने की मांग भी की।