उमर अब्दुल्ला ने राज्यपाल को भेजा फैक्स, रिसीव नहीं होने पर कहा नई मशीन की जरूरत

पिछले महीने राजनीतिक घटनाक्रम के केंद्र में रही जम्मू कश्मीर राजभवन की फैक्स मशीन एकबार फिर सुर्खियों में हैं और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने दावा किया कि उन्होंने रविवार को राज्यपाल सत्यपाल मलिक को एक पत्र भेजने की कोशिश की लेकिन फैक्स मशीन अब भी काम नहीं कर रही. जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री राज्य में स्थायी आवास प्रमाण-पत्र दिये जाने की प्रक्रिया में प्रस्तावित बदलावों से जुड़ी खबरों को लेकर अपनी चिंता जाहिर करते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक को एक फैक्स भेजने की कोशिश कर रहे थे.

उन्होंने ट्विटर पर यह खत साझा किया. अब्दुल्ला ने एक ट्वीट कर कहा, ‘‘मैं जम्मू कश्मीर के राज्यपाल को एक खत फैक्स करने की कोशिश कर रहा हूं लेकिन फैक्स मशीन अब भी काम नहीं कर रही है. फोन पर जवाब देने वाले ऑपरेटर ने कहा कि रविवार होने की वजह से फैक्स ऑपरेटर छुट्टी पर है. मैं कल फिर से प्रयास करूंगा इस बीच मैं इस खत को सोशल मीडिया पर डालने के लिए मजबूर हूं.’’

अब्दुल्ला द्वारा ट्वीट किए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर राज्यपाल दफ्तर से ट्वीट कर कहा गया कि आपने जो फैक्स भेजा था वह मिल चुका है. इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए उमर अब्दुल्ला ने कहा कि फैक्स मिलने की जानकारी देने के लिए शुक्रिया. आपके ऑपरेटर ने पहले कहा था ऑपरेटर नहीं होने की वजह से फैक्स रिसीव नहीं किया जा सकता है. अभी भी डिलीवरी कंफर्मेशन नहीं मिला है, लेकिन कोई कारण नहीं है जिसके आधार पर इसका दावा कर सकूं.

उन्होंने 21 नवंबर की एक पोस्ट को रीट्वीट करते हुए कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर राजभवन को तत्काल एक नई फैक्स मशीन की जरूरत है.’’ बता दें, जम्मू-कश्मीर में PDP, कांग्रेस और अब्दुल्ला की पार्टी नेशनल कॉन्फ्रेंस मिलकर सरकार बनाने वाली थी. लेकिन, राज्यपाल मलिक ने उससे पहले ही विधानसभा को भंग कर दिया. इस पर कहा गया कि फैक्स मशीन के जरिए राजभवन को गठबंधन की सूचना दी गई थी. सफाई में राजभवन की तरफ से कहा गया था कि उसे कोई फैक्स नहीं मिला है.