ट्रकवालों की हत्या अर्थव्यवस्था और लोगों की आजीविका पर हमला :पुलिस

ट्रक वालों की हत्या को अर्थव्यवस्था एवं लोगों की आजीविका पर हमला करार देते हुए जम्मू कश्मीर पुलिस के प्रमुख दिलबाग सिंह ने कहा कि इन मामलों में जांच की जा रही है और पुलिस को अहम सुराग मिले हैं। सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘ ट्रकवालों की हत्या के मामलों की जांच चल रही है और हमें कुछ महत्वपूर्ण सुराग भी मिले हैं। यह स्थानीय अर्थव्यवस्था और लोगों की आजीविका पर हमला है। यह लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी में खलल डालने के लिए किया जा रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ ऐसे कृत्य लोगों के हित में नहीं हैं। काफी हद तक लोग ऐसी हरकतों की निंदा कर रहे हैं। हमारी जांच आखिरी चरण में है… हमने उनमें शामिल लोगों की पहचान कर ली है।’’ उन्होंने कहा कि आतंकवादियों द्वारा शोपियां में ट्रकवालों पर हमले और विद्युत वितरण लाइन को नुकसान बागवानी एवं पर्यटन को बाधा पहुंचाने के लिए किया। दक्षिण कश्मीर के आतंकवाद प्रभावित शोपियां जिले में दस दिनों में तीसरी बार बृहस्पतिवार को आतंकवादियों ने हमला कर दो गैर कश्मीरी ट्रकवालों की हत्या कर दी थी जो सेब लाने के लिए गये थे। आतंकवादियों ने ट्रकों में आग भी लगा दी थी। चौदह अक्टूबर को एक पाकिस्तानी नागरिक समेत दो आतंकवादियों ने राजस्थान पंजीकरण वाले ट्रक के ड्राइवर की हत्या कर दी थी तथा एक बगीचे के मालिक पर हमला किया था। उसके दो दिन बाद पंजाब के एक सेब व्यापारी — चरणजीत सिंह की हत्या कर दी थी। पुलिस प्रमुख ने कहा, ‘‘ हमारी पहली प्राथमिकता सेब कारोबार से जुड़े लोगों की मदद करना है। कुछ कदम पहले ही उठाये गये हैं और जहां भी लोगों को सुरक्षा की जरूरत होती है, सुरक्षा का इंतजाम किया जाता है। सभी क्षेत्रों खासकर अंदरूनी क्षेत्रों को सुरक्षा नेटवर्क में लाना संभव नहीं है लेकिन ज्यादातर क्षेत्रों में सुरक्षा व्यवस्था की गयी है।’’ उन्होंने नियंत्रण रेखा पर आतंकवादियों की घुसपैठ के संबंध में कहा कि नियंत्रण रेखा से कश्मीर में आतंकवादियों को भेजने की कोशिश लंबे समय से पाकिस्तान की सेना और आईएसएस द्वारा की जा रही है। उन्होंने हाल ही में अपनी कोशिश बढ़ा दी है लेकिन हमारे सुरक्षाबल मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं। घुसपैठ की सभी कोशिश विफल की जाएगी। कुछ स्थानों से घुसपैठ की खबरे हैं लेकिन ऐसी ज्यादातर कोशिशें विफल कर दी गयी हैं। जब उनसे पूछा गया कि क्या ऐसी कोई सूचना है कि 31 अक्टूबर को जब राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटा जाएगा तब आतंकवादी हमला कर सकते हैं तो उन्होंने कहा, ‘‘ 31 अक्टूबर को किसी बड़े हमले के बारे में कोई सूचना नहीं है लेकिन आतंकवादी और उनके आका शांति भंग करने का सदैव प्रयास करते हैं। हमारा प्रयास शांति सुनिश्चित करना है।… पिछले कुछ दिनों में हमारे अभियान ने भी गति पकड़ी है और आतंकवादियों को नुकसान पहुंचा है।’’