कश्मीर में ड्रग्स बेचकर मिले पैसों से आतंकियों की फंडिंग कराने की कोशिश में है पाकिस्तान

सुरक्षाबलों की ताबड़तोड़ कार्रवाई और टेरर फंडिंग पर हुई चोट से अपनी जमीन खो रहे आतंकी संगठनों ने कश्मीर में पैसे के इंतजाम के लिए अब ड्रग्स सप्लाई के नेटवर्क का सहारा लेना शुरू किया है। पाकिस्तानी आईएसआई की शह पर कश्मीर घाटी में आतंकी फंडिंग के लिए ड्रग्स सप्लाई के जरिए पैसों का इंतजाम करने की साजिश रची जा रही है। बीते कुछ दिनों में सेना और पुलिस ने बड़े ऑपरेशंस में ऐसी साजिश में शामिल तमाम लोगों को गिरफ्तार किया है। इन सभी के पास भारी मात्रा में ड्रग्स और हथियार मिले हैं।

अकेले जून में सुरक्षा एजेंसियों ने ऐसे तीन मामलों का पर्दाफाश किया है। इन तीनों मामलों का सीधा लिंक पाकिस्तान से है। सुरक्षाबलों की कार्रवाई में पकड़े गए पांच आतंकी मददगारों ने इस बात का खुलासा किया है कि ड्रग्स की बिक्री से मिले पैसे आतंकियों तक पहुंचाए जाने थे। ऐसे में आतंकी कनेक्शन को देखते हुए इस पूरे केस की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी को सौंप दी गई है।

हाल ही में कुपवाड़ा में पुलिस और सेना ने संयुक्त आपरेशन के दौरान एक बड़े नारको टेरर मॉड्यूल का भंडाफोड किया है। इस दौरान गिरफ्तार आतंकियों के दो मददगारों के पास से 13.5 किलो हेरोइन बरामद हुई है। जिसकी कीमत करीब 65 करोड़ रुपये बताई जा रही है। खेप के साथ गिरफ्तार किए गए मंजूर अहमद लोन तथा गुलाम मोहम्मद लोन के पास से हेरोइन के अलावा 4 पिस्टल, 4 मैगजीन, 55 राउंड, 4 ग्रेनेड तथा 10 डेटोनेटर बरामद हुए।

लश्कर के आकाओं के संपर्क में थे ड्रग पैडलर
इससे पहले हंदवाड़ा में तीन लश्कर सहयोगियों के कब्जे से 1.34 करोड़ रुपये नकद, 21 किलोग्राम हेरोइन बरामद की गई थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 80 करोड़ रूपये के करीब बताई जा रही है। ये सभी पाकिस्तान में बैठे लश्कर के आकाओं के सीधे संपर्क में थे। इनका मुख्य उद्देश्य कश्मीर में लश्कर की जड़ों को मजबूत करना और यहां ड्रग्स की आपूर्ति करना था।

पाकिस्तान से भेजी जा रही नशे की खेप
एजेंसियों को इस बात की जानकारी मिली है कि नशे की यह खेप पाकिस्तान से भेजी जा रही है। ये खेप ओवर ग्राउंड वर्कर्स खुद प्राप्त करते हैं और वे इसे देश के अन्य हिस्सों में बेचते हैं। वहां से मिलने वाला धन को आतंकी वारदातों में इस्तेमाल किया जाता है। अब तक की जांच से पता चला है कि ये ड्रग्स पंजाब भेजी जाने थी। इसके साथ ही तीन दिन पहले पुंछ पुलिस मेंढर इलाके में एलओसी के पास सर्च आपरेशन के दौरान तीन पैकेट हेरोइन के बरामद किए थे। कुल डेढ़ किलो हेरोइन थी। जिस पैकेट में हेरोइफन को बरामद किया गया था। उस पर पाकिस्तान के लाहौर का पता लिखा हुआ था। इस तरफ इसे मददगारों के लिए छोड़ा गया था।

11 जून को पंजाब में पकड़े गए थे दो आतंकी
इसके अलावा पंजाब पुलिस ने कुछ दिन पहले 11 जून पठानकोट-अमृतसर रोड पर एक ट्रक से आतंकियों के दो मददगारों को हथियारों के साथ गिरफ्तार किया था। यह लोग अमृतसर से हथियार लेकर कश्मीर की तरफ जा रहे थे। इस गिरफ्तारी के बाद जांच एनआईए को सौंपी गई थी। इससे पहले 25 अप्रैल को पंजाब के अमृतसर में आतंकियों का मददगार पकड़ा गया था, जोकि सप्लाई हुई नशे की खेप के पैसे लेने के लिए आया हुआ था। उसने बताया था कि यहां से लिए पैसे हिज्बुल कमांडर रियाज नाइकू को देने का प्लान था।