आतंकियों के निशाने पर J&K के उपराज्यपाल, मुज़फ़्फ़राबाद में हुई आतंकी तंजीमों की मीटिंग

केंद्रशासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू को निशाना बनाने की बड़ी साज़िश का पर्दाफाश हुआ है. ख़ुफ़िया सूत्रों के हवाले से ख़बर है कि हाल ही में मुज़फ़्फ़राबाद में हुई आतंकी तंजीमों की मीटिंग में उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू को निशाना बनाने की बड़ी साजिश रची जा रही है.

यही नहीं हाल में ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल के चुनावों में जीते उम्मीदवार भी निशाने पर हैं. लश्करे तैयबा का आतंकी जिआ-उल-रहमान मीर इस साजिश को लीड कर रहा है. लश्कर और हिजबुल के आतंकियों की हिट लिस्ट में बीजेपी के जम्मू-कश्मीर के बड़े नेता भी शामिल हैं.

खुफिया सूत्रों के मुताबिक कोटली के जमा-उल-हक मदरसे में 29 अक्टूबर को जैश ने मीटिंग बुलाई थी. इसमें सभी तंजीमों के कमांडर शामिल हुए थे. इसमें फिदायीन हमले के लिए आतंकियों को प्रेरित करने और ज़्यादा से ज़्यादा हमले को अंजाम देने के निर्देश जारी किए गए. बहावलपुर के मरकज़ उस्मान ओ अली में भी जैश ने ट्रेंड फ़िदायीनो की मीटिंग बुलाई थी. आईएसआई ने बाक़ायदा जैश को घुसपैठ की मंज़ूरी दी है.