जम्मू कश्मीर टूरिज़्म पर भी छाया कोरोना के डर का साया

पूरी दुनिया में कोरोना का ख़ौफ है. हिंदुस्तान में भी कोरोना के 31 मरीजों की तस्दीक हो चुकी है जिनका इलाज चल रहा है. कोरोना के डर से जम्मू कश्मीर का टूरिज़्म में खासा असर पड़ा है जम्मू कश्मीर में टूरिस्ट जो आने वाले थे उन्होंने बुकिंग कैंसिल करा दी है.और जो टूरिस्ट का मन बना रहे थे उन्होंने फिलहाल आना कैंसिल कर दिया है

टूरिज़्म से जुड़े लोगों का मानना है कि जम्मू कश्मीर में मार्च महीने से टूरिस्ट का आना शुरू होता है और इसी पर कमाई कर अपना घर चलाने वाले लोगों को टूरिज़्म से उम्मीदें जुड़ी होती हैं, लेकिन हाउस बोट और टूर ऑपरेटर्स की माने तो कोरोना के चलते कारोबार पर असर पड़ा है

श्रीनगर का डल झील टूरिस्ट के लिए सबसे खास जगह मानी जाती है जहां लोग आए बिना नहीं रह सकते लेकिन कुछ दिनों से डल झील का सन्नाटा मानों सब कुछ कह जाता है. हालांकि इस सन्नाटे के बीच मुंबई के कुछ सैय्याह डल झील पर दिखाई दिए.हालांकि टूरिस्ट कोरोना से बचने के चलते घूमने फिरने से दूरी बना ली है.

जम्मू में जहां 2 मरीजों के कोरोना के पॉज़िटिव होने का शक जताया जा रहा है और उन्हें आइसोलेशन वॉर्ड्स में रखा गया है ।वहीं देश के दूसरे रियासतों से आये सैय्याहों ने कहा कि वो पूरी तरह से अपने आपको महफूज़ रखने के लिए कोरोना से बचने के सारे उपाय ले रहे हैं होटल में भी साफ सफाई का खासा ख्याल रखा जा रहा है.

कश्मीर हाउस बोट एसोसिएशन का कहना है कि जम्मू कश्मीर में कोरोना के चलते टूरिस्ट आने में गुरेज़ कर रहे हैं एसोसिएशन का मानना है कि टूरिज़्म बढ़ रहा था इससे उनकी और उम्मीदें जुड़ी हुई थीं लेकिन कोरोना के कहर ने इसको भी अपने चपेट में ले लिया है.