सेना में भर्ती होने का जुनून, वतन के काम आएं तो मिले सुकून

जम्मू और कश्मीर ( Jammu Kashmir ) के श्रीनगर ( Srinagar ) में बड़ी संख्या में स्थानीय युवक सेना ( Indian Army ) में भर्ती होने के लिए पहुंचे हैं। कमांडिंग ऑफिसर आरआर शर्मा ने कहा कि करीब 6500 युवा स्क्रीनिंग और फिजिक्स के लिए आए। हमने लगभग 550 युवाओं को शॉर्टलिस्ट किया है। सभी परीक्षाओं के बाद, उन्हें 162 टेरिटोरियल आर्मी में शामिल किया जाएगा। जानकारी के अनुसार कश्मीर वादी में आतंकियों और अलगाववादियों द्वारा सेना व सुरक्षाबलों में भर्ती होने वालों को इस्लाम का दुश्मन करार देने, उनके सामाजिक बहिष्कार के लिए लोगों को फरमान सुनाने के बावजूद स्थानीय युवाओं में भारतीय सेना का हिस्सा बनने का जोश कम नहीं हो रहा है। घाटी में सैंकड़ों की तादाद में युवा फौजी बनने के लिए सैन्य भर्ती सेंटर पहुंचे। इन युवाओं को काबू करने के लिए सैनिकों को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।कमांडिंग ऑफिसर शर्मा ने बताया कि स्थानीय लोगों के आग्रह और स्थानीय युवाओं में फौज में भर्ती होने का जोश देखते बनता है। जम्मू-कश्मीर में प्रादेशिक सेना को टेरीटोरियल आर्मी अथवा टीए भी कहते हैं, कुछ दिन पहले ही उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे जिला कुपवाड़ा में टीए की भर्ती आयोजित की गई थी जिसमे दो हजार स्थानीय युवकों ने हिस्सा लिया था। मंगलवार को श्रीनगर में भर्ती रैली शुरू की गई है। जानकारी हो कि रक्षा मंत्रालय ने इसी माह वादी में एक भर्ती रैली का आयोजन किया था। इस रैली में करीब पांच हजार स्थानीय युवकों ने हिस्सा लिया था जबकि कुल रिक्तियां सिर्फ 2780 ही थी।