लद्दाख में कोरोना के खिलाफ लड़ रहे मेडिकल कर्मचारियों और पुलिसकर्मियों को दिए जा रहे हैं मास्क

कोरोना वायरस के संक्रमण के दो पॉजिटिव केस आने के बाद से लद्दाख में लगातार सरकार हरकत में है, लेकिन सड़क संपर्क ना होने के चलते लद्दाख के लिए ज़रूरी सामान केवल हवाई रस्ते से आ रहा है, जिससे कुछ ज़रूरी सामान कि कमी होने लगी है. संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने विशेष प्रबंध करके मेडिकल कर्मचारियों और पुलिस कर्मियों के लिए विशेष मास्क मंगवाए हैं और बांटे जा रहे हैं. प्रशासन ने सभी कर्मचारियों के लिए मास्क और ‘प्रोटेक्टिव गियर’ लगाना अनिवार्य कर दिया है.

लद्दाख के कमिश्नर टूरिज्म, रिंगज़िन सेम्फाल (Ringzin Semphal) ने कहा कि संक्रमण से लड़ने के लिए लद्दाख क्षेत्र में उन सभी मेडिकल और पुलिसकर्मियों को N-95 मास्क दिए जा रहे हैं, जो कोरोना के खिलाफ लड़ रहे हैं.

सेम्फाल के अनुसार पहले चरण में कोरोना आइसोलेशन वार्ड और कोरोना टेस्ट सेंटर में तैनात कर्मियों को 7 हज़ार मास्क बांटे जाएंगे. आने वाले दिनों में सभी डॉक्टर पैरा-मेडिकल स्टाफ और सुरक्षा कर्मियों में भी मास्क बांटे जाएंगे. पिछले 24 घंटों में लद्दाख में कोरोना पॉजिटिव कोई मामला सामने नहीं आया है. जो तीन नए केस निगेटिव आए हैं. उनमें से दो लद्दाख से है, जब कि एक इटली के पर्यटक का भी टेस्ट नेगेटिव आया है.

वहीं, टेस्ट में हो रही देरी की बात मानते हुए सेम्फाल ने कहा कि अभी भी 56 लोगों के टेस्ट रिजल्ट आने बाकी हैं. लद्दाख में अभी तक कोरोना संक्रमण के दो पॉज़िटिव मामले सामने आए हैं, जिसके बाद उनके गांव को 28 दिन के लिए क्वारंटीनE किया गया है.

पिछले 24 घंटो में कोरोना जैसे लक्षण वाले 32 नए मामले सामने आए हैं, जिनके टेस्ट जांच के लिए भेजे गए हैं. इनमें से 21 लेह से जबकि 11 कारगिल से हैं.