सेना के लिए बड़ी खबर: एक सप्ताह में बहाल हो जाएगा मनाली-लेह मार्ग

सामरिक महत्व वाला करीब 1100 किलोमीटर लंबा मनाली-लेह मार्ग जल्द यातायात के लिए बहाल होने जा रहा है। इसके लिए करीब एक हफ्ते का समय लग सकता है। इस वर्ष कोविड-19 के चलते सैलानियों की आवाजाही नहीं हो रही है। लेकिन हालात सामान्य होने पर पर्यटक इस मार्ग के सुहाने सफर का आनंद उठा पाएंगे।  बीआरओ कड़ी मशक्कत के बाद मनाली-लेह मार्ग की बहाली के नजदीक पहुंच गया है। बीआरओ की लेह स्थित हिमांक परियोजना ने सरचू तक सड़क को पहले ही बहाल कर दिया है। मनाली स्थित दीपक परियोजना के जवान दोनों तरफ से बारालाचा दर्रे से बर्फ हटाने में जुटे हैं।
मार्ग के खुलने से सीमा पर तैनात सुरक्षा बलों तक पहुंचना आसान हो जाएगा। मनाली पहुंचते ही सैलानी सबसे पहले 13050 फीट ऊंचे रोहतांग दर्रे का दीदार कर सकेंगे। यहां से 16000 फीट ऊंचे बारालाचा दर्रे का दीदार हो सकेगा। इसके अलावा 16500 फीट ऊंचा लाचुंगला दर्रा को पार करते हुए लेह की वादियों में प्रवेश करने के बाद दुनिया के खूबसूरत साढे़ 17 हजार फीट तांगलांगला दर्रे को देख पाएंगे। बीआरओ के कमांडर कर्नल उमा शंकर ने बताया कि इस बार उन्होंने बारालाचा दर्रे पर दोनों ओर से चढ़ाई की है। उन्होंने कहा कि मौसम ने साथ दिया तो एक सप्ताह के भीतर बहाल कर लिया जाएगा।