तीन तलाक पर एनडीए ने की जल्दबाजी, राजनीतिक स्तर पर भी महिलाओं को मिले आरक्षण : पीडीपी

जम्मू में पीडीपी महिला विंग की प्रमुख शफीना बेग ने राजनीतिक और प्रशासनिक स्तर पर महिलाओं को बड़े स्तर पर आरक्षण देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में महबूबा मुफ्ती सरकार में शुरुआत की गई थी।

वहीं, तीन तलाक के मद्दे पर केंद्र सरकार को घेरते हुए बिल को संसद में भेजने में जल्दबाजी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि शादी नागरिक अनुबंध है, इसे संसद में ले जाने की जरूरत नहीं थी।

बेग ने कहा कि आज रियासत में सात प्रतिशत घर महिलाओं के नेतृत्व में अच्छी तरह चल रहे हैं। 18 वर्ष से कम उम्र के 11 प्रतिशत बच्चे अकेले अपनी मां के साथ रह रहे हैं। महिलाओं की साक्षरता दर पुरुषों के मुकाबले कम है।

महिलाओं में साक्षरता 56.43 व पुरुषों की 76.75 प्रतिशत है। पीडीपी सरकार में सेल्फ हेल्प ग्रुप और मनरेगा के तहत 3.86 लाख महिलाओं को रोजगार मिला, जिसे आगे बढ़ाने की जरूरत है।