बकाया भुगतान नहीं होने के कारण जम्मू कश्मीर को दी जाने वाली बिजली में कटौती करेगी एनटीपीसी

नेशनल थर्मल पावर कारपोरेशन (एनटीपीसी) 18 फरवरी मध्य रात से जम्मू कश्मीर राज्य को 939.03 मेगावाट बिजली उपलब्ध नहीं करवाएगा। 1626 करोड़ के बकाये का भुगतान राज्य की तरफ से नहीं किए जाने पर एनटीपीसी ने बिजली कटौती करने का फैसला लिया है।

एनटीपीसी ने जम्मू कश्मीर राज्य सरकार को जारी नोटिस में बताया हैं कि पिछले साठ दिनों से कंपनी का 1626 करोड़ के बकाये का भुगतान नहीं किया जा रहा है। केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग की निर्देशावली के अनुसार बकाये का भुगतान न होने पर कंपनी डिफाल्टर राज्यों की बिजली में कटौती कर सकती है।

नोटिस के अनुसार जम्मू कश्मीर राज्य में एनटीपीसी के दादरी, कोलडम, फरक्का, औरैया, रिहंद और ऊंचाहार प्लांट से होने वाली 939.03 मेगावाट बिजली की सप्लाई 18 फरवरी मध्य रात्रि से नहीं की जाएगी। ऐसे में 18 फरवरी मध्य रात्रि से जम्मू कश्मीर में बिजली का संकट पैदा हो सकता है।

राज्य में वैसे भी बिजली की मांग 2700 मेगावाट के पार जा चुकी है। राज्य के अपनी बिजली स्त्रोतों व बिजली खरीद कर भी राज्य सरकार 1700 से 1800 मेगावाट बिजली ही उपलब्ध करवा पा रही है। ऐसे में एनटीपीसी के 18 फरवरी से बिजली कटौती करने की चेतावनी के बाद रियासत में बिजली संकट जैसे हालात उत्पन्न होने के आसार बन गए हैं।