जम्मू-कश्मीर: 72 घंटों के भीतर मारे गए 13 आतंकी, कई के ऊपर था 12 लाख का ईनाम

घाटी में सुरक्षाबलों की मुस्तैदी के सामने आतंकियों के हौसले पस्त हो गए हैं। लगातार सक्रिय रहने वाले आतंकियों को अब चुन-चुनकर मारा जा रहा है। इससे आतंकी बौखला गए हैं। 72 घंटों के भीतर अलग-अलग मुठभेड़ों में 13 आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है। रविवार की सुबह सुरक्षाबलों ने पहले कुलगाम और फिर शोपियां जिले में आतंकियों के खिलाफ बड़ा अभियान चलाया। इस कार्रवाई में सात आतंकी ढेर कर दिए गए। इसके अलावा कई स्थानों पर व्यापक तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। मारे गए आतंकी लश्कर और हिजबुल से जुड़े हुए थे। इससे पहले शुक्रवार को छह आतंकी मारे गए थे।

सुरक्षाबलों ने शोपियां व पुलवामा में दो अलग अलग स्थानों पर आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में 7 आतंकियों को ढेर कर दिया है। इनमें हिजबुल का जिला कमांडर मुश्ताक अहमद मीर भी शामिल है। शोपियां में हुई मुठभेड़ में सेना का एक जवान शहीद हो गया जबकि दूसरा घायल है। स्थानीय लोगों ने सुरक्षाबलों के काफिले पर पथराव कर दिया। भीड़ पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों को गोली चलानी पड़ी। इसमें एक नागरिक की मौत हो गई, चार अन्य घायल हो गए। हालातों को देखते हुए तीन जिलों में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया है।

शोपियां में मारे गए सभी छह आतंकियों के शव भी बरामद कर लिए गए हैं। इनमें हिजबुल मुजाहिदीन के चार और दो लश्कर-ए-तैयबा के हैं। मारे गए आतंकियों में एक पाकिस्तानी था। एक आतंकी वह भी है जो 21 नवंबर को लाल चौक पर हुई आतंकवादियों की बैठक में भी शामिल था और लाल चौक पर खींची गई उसकी सेल्फी भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। इससे पहले शुक्रवार को अनंतनाग में भी सुरक्षा बलों ने छह आतंकियों को ढेर किया था।

शोपियां के एसएसपी संदीप चौधरी का कहना है कि सुरक्षाबलों को सूचना मिली थी कि बाटागुंड गांव में आतंकवादियों का एक दल छिपा हुआ है। जानकारी मिलने के बाद 34 आरआर,सीआरपीएफ व एसओजी की टीम ने शनिवार देर रात ही इलाके को घेरकर सर्च आपरेशन शुरू कर दिया। आतंकवादी एक मकान में छिपे हुए थे। सुरक्षाबलों का दबाव बढ़ने पर आतंकवादियों ने फायरिंग शुरू कर दी। सुरक्षाबलों ने पोजीशन लेते हुए फायरिंग की और छह आतंकियों को मार गिराया।

गोलीबारी में 34आरआर का एक जवान नजीर अहमद घायल हो गया। जवान को तुरंत अस्पताल ले जाया गया। जहां बाद में उसकी मौत हो गई। वह कुलगाम  के रहने वाले थे। इनके पास से हथियार भी मिले हैं। मुठभेड़ स्थल के पास आतंकियों के समर्थन में उतरे लोगों पर काबू पाने में पांच नागरिकों को भी गोली लग गई। पांचों को अस्पताल पहुंचाया गया। यहां एक ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। शोपियां और कुलगाम जिले में एहतियाती तौर पर मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद की गई है।

सैन्य कमांडर, सेक्टर-2, सचिन मलिक ने बताया कि सेना के लिए यह बड़ी सफलता है। मारे गए आतंकियों में कई आम नागरिकों की हत्या में भी शामिल थे। हॉल ही में पूर्व एसपीओ की हत्या में भी इनमें से आतंकी शामिल था। 2017 में शहीद लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या में शामिल हिज्बुल टॉप कमांडर अब्बास भट भी मुठभेड़ में मारा गया है।  दक्षिण कश्मीर में करीब180 के आसपास आतंकी मौजूद हैं। जिनमें 50 से ज्यादा पाकिस्तानी आतंकी हैं।

अवंतीपुरा में जैश का आतंकी ढेर

सुरक्षाबलों ने पुलवामा जिले के आवंतीपोरा के खिरयू में जैश ए मोहम्मद के एक आतंकी को ढेर कर दिया है। विश्वसनीय सूचना के आधार पर सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर कर सर्च आपरेशन चलाया। यहां आतंकी से हुई मुठभेड़ में उसे मार गिराया गया। मारा गया आतंकी जैश ए मोहम्मद का है। जिसके पास से एके 47, मैगजीन, ग्रेनेड सहित कई अन्य तरह का गोला बारूद बरामद किया गया है। मारे गए आतंकी का नाम वसीम बताया जा रहा है।

अनंतनाग में भी मारे गए थे 6 आतंकी
बता दें कि इससे पहले शुक्रवार को अनंतनाग में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली थी। यहां सुरक्षाबलों ने छह आतंकियों को मार गिराया था। मुठभेड़ के बाद भारी मात्रा में हथियार सुरक्षाबलों के हाथ लगे थे। गौरतलब है कि शोपियां में ही शुक्रवार को अज्ञात बंदूकधारियों ने एक पूर्व एसपीओ बशारत अहमद की अपहरण के बाद मुखबिर होने के संदेह के आधार पर हत्या कर दी थी।

लाखों के ईनामी आतंकी थे

शोपियां मुठभेड़ में मारे गए छह में से पांच आतंकी स्थानीय हैं। जबकि एक विदेशी है। मारे गए स्थानीय आतंकियों में डबल ए श्रेणी में 12 लाख के ईनामी दो आतंकी उमर माजिद गनई उर्फ  गजाला उर्फ हंजुला, मुश्ताक अहमद मीर उर्फ  हामिद शामिल हैं। मुश्ताक पर सुरक्षाबलों पर हमला करने और कई अन्य आपराधिक केस दर्ज हैं। 10 लाख रुपये के ईनामी ए श्रेणी के दो आतंकी वसीम अहमद वागे और अब्बास अहमद बट व सी श्रेणी में तीन लाख का ईनामी आतंकी खालिद फारूक मलिक उर्फ अबु तल्हा शामिल है। उमर माजिद, वसीम, अब्बास और खालिद फारूक मलिक चारों का संबंध हिजबुल मुजाहिदीन से है, जबकि मुश्ताक अहमद लश्कर का जिला कमांडर था। पाकिस्तानी आतंकी भी लश्कर से जुड़ा हुआ था।

घंटाघर पर ली थी सेल्फी
उमर मजीद गेनेई वही आतंकी है जिसने लालचौक में गत दिनों घंटाघर के पास अपनी एक सेल्फी को सोशल मीडिया पर वायरल किया था।

नायक नजीर अहमद शहीद
शोपियां मुठभेड़ में शहीद जवान की पहचान नायक नजीर अहमद के रुप में हुई है। वह सेना की 162 टीए बटालियन में तैनात था और इन दिनों वह प्रतिनियुक्ति के आधार पर सेना की 34 आरआर से जुड़ा हुआ था। वह जिला कुलगाम का रहने वाला था।34 आर आर का जवान सुनील कुमार भी मुठभेड़ के दौरान घायल हो गया था।

सुरक्षाबलों को चलानी पड़ी गोली
मुठभेड़ स्थल के पास हिंसक लोगों को काबू करने के लिए सुरक्षाबलों को फायरिंग करनी पड़ी। फायरिंग में पांच नागरिक घायल हो गए। इनमें एक की मौत हो गई, जिसका नाम नोमान अशरफ बट है। वह बालूसा कुलगाम का रहने वाला था। उसके अलावा हिंसक झड़पों के दौरान गोली और पैलेट लगने से जख्मी होने के बाद उपचार के लिए श्रीनगर में लाए गए चार घायलों में शामिल रियाज अहमद के बाएं बाजू में और फैजान गुलजार के सिर में गोली लगी है जबकि सज्जाद अहमद के सिर में और हाबी नजीर की बायीं आंख में पैलेट लगे हैं।