J&K: शोपियां गनफाइट में एक और आतंकवादी मारा गया

दक्षिण कश्मीर के जिला शोपियां में बुरहान वानी ग्रुप का अंतिम सदस्य लतीफ टाइगर और उसके दो अन्य साथियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है। जिले के इमामसाहब क्षेत्र में आतंकियों के छिपे होने की सूचना सुरक्षाबलों को विश्वस्नीय सूत्रों से मिली। सेना की 34 आरआर, सीआरपीएफ और पुलिस के एसओजी जवानों ने सुबह तड़के ही इमाम साहब के अडखरा गांव में घेराबंदी कर आतंकियों की तलाश शुरू कर दी। करीब नौ से दस घंटे तक चली इस मुठभेड़ के बाद पुलिस अधिकारी ने डोगरीपोरा पुलवामा के लतीफ अहमद डार उर्फ टाइगर के उसके दो अन्य साथियों के साथ मारे जाने की पुष्टि की।

बुरहान वानी के आतंकी हिज्ब में शामिल होने के बाद घाटी में वायरल हुइ 11 आतंकियों की गु्रप फोटों में भी तलीफ टाइगर पीछे खड़ा दिखार्इ दे रहा है। टाइगर 2014 से आतंकवादी गतिविधियों में सक्रिय था।

मारे गए दो अन्य आतंकवादियों की पहचान मुलू चित्रगम के तारिक मोलवी और शोपियां के चोतिगम के शारिक अहमद नेग्रो के रूप में हुई। यह तिकड़ी हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकवादी समूह से संबद्ध थी। इस मुठभेड़ में सेना का एक जवान भी गोली लगने से घायल हो गया है। अधिकारी ने कहा कि मुठभेड़ के दौरान एक घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया जबकि दो अन्य घरों को आंशिक क्षति हुई है। मुठभेड़ समाप्त होते ही आतंकवादियों की हत्या के विरोध में स्थानीय युवाओं ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। यही नहीं उन्होंने मुठभेड़ स्थल पर मौजूद सुरक्षाबलों पर पत्थर बरसाना भी शुरू कर दिए। कई बार समझाने के बाद भी जब प्रदर्शनकारी नहीं माने तो पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे।

इस दौरान कई युवा घायल भी हो गए। प्रदर्शन में शामिल बीस वर्षीय युवक मुदासिर अहमद मीर को गंभीर चोट आने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एहतियात के तौर पर प्रशासन ने दक्षिण कश्मीर में इंटरनेट सेवाओं को फिलहाल बंद कर दिया है।

सनद रहे कि हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान मुजफ्फर वानी को जुलाई 2016 में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में मार दिया गया था। इसके बाद घाटी में कई महीनों तक अशांति फैल गई थी। पत्थरबाजी व सुरक्षाबलों के खिलाफ स्थानीय लोगों द्वारा छेड़ी गई मुहिम में 100 से अधिक लोग मारे जबकि कई घाल भी गए थे।