कश्मीर में बर्फबारी, उड़ानें हुई रद्द

कश्मीर में 40 दिनों की भयंकर सर्दी का दौर ‘चिल्लई कलां’ बृहस्पतिवार को भले समाप्त हो गया लेकिन रुक रुक कर होने वाली बर्फबारी एवं निम्न दृश्यता की वजह से श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग के बंद रहने और यहां किसी भी विमान के नहीं उतर पाने से घाटी का संपर्क अब भी देश के बाकी हिस्से से कटा हुआ है। यातायात विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यहां पीटीआई भाषा को बताया कि काजीगुंड इलाके में जवाहर सुरंग के इर्द-गिर्द बर्फ जमा रहने और रामबन जिले में अनोखी झरने के पास भूस्खलन होने के कारण श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग बंद है। वैसे इस हफ्ते के प्रारंभ में शुरु के दो-तीन दिन यातायात की अनुमति थी लेकिन बार बार भूस्खलन होने और सुरंग के आसपास बर्फबारी होने से पिछले दो सप्ताह में ज्यादातर समय यह राजमार्ग बंद ही रहा। स्थानीय बाशिंदों ने दावा किया कि इस राजमार्ग के बंद होने के कारण रसोई गैस जैसी जरुरी चीजें तथा सब्जियों एवं मांस समेत खाद्य पदार्थों की कमी हो गयी है। सराई बाला के निवासी फारुक अहमद भट ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से सब्जियों और अन्य खाद्य पदार्थों के दाम बहुत बढ़े हैं। संभागीय प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि राजमार्ग पर फंसे कुछ ट्रक पिछले दो दिनों में यहां पहुंच गये हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘आपूर्ति आ गयी है, हमारे पास जरुरी चीजों का पर्याप्त भंडार है। घबराने की जरुरत नहीं है। ’’ लेकिन बर्फबारी और दृश्यता में कमी आने की वजह से बृहस्पतिवार को नौ उड़ाने रद्द करनी पड़ी। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘आज सुबह से कोई भी विमान श्रीनगर हवाई अड्डे पर नहीं पहुंचा।अब तक नौ उड़ानें रद्द कर दी गयी हैं।यदि मौसम नहीं सुधरा तो बाकी उड़ानें भी रद्द कर दी जाएंगी।