J&K: मां के जयकारों के साथ वैष्णो देवी यात्रा फिर शुरू, दर्शन के लिए चेहरे पर मास्क और कोरोना की रिपोर्ट लाना जरूरी

करीब 5 महीने के लंबे इंतजार के बाद वैष्णो देवी यात्रा आज से शुरू हो गई है। कोरोना के चलते इस बार यह यात्रा अलग है। श्रद्धालुओं को चेहरे पर मास्क लगाना होगा, कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। फोन पर आरोग्य सेतु ऐप भी डाउनलोड करनी होगी। इसी के साथ जगह-जगह थर्मल स्क्रीनिंग भी की जाएगी। बता दें कि कोरोना के कारण 18 मार्च को माता की यात्रा बीच में ही रोक दी गई थी।

श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रमेश कुमार ने बताया कि पहले हफ्ते में हर रोज अधिकतम दो हजार तीर्थयात्री जाएंगे। इनमें से 1,900 जम्मू-कश्मीर और बाकी 100 यात्री बाहर के होंगे। ऑनलाइन पंजीकरण के बाद ही लोगों को यात्रा की इजाजत होगी। कुमार ने बताया कि यात्रियों को फोन में ‘आरोग्य सेतु ऐप’ डाउनलोड करना जरूरी है। चेहरे पर मास्क लगाना होगा। जगह-जगह पर थर्मल जांच की जाएगी।

साथ लानी होगी कोरोना निगेटिव रिपोर्ट
प्रदेश के बाहर से आने वाले भक्तों को टेस्ट करवाकर आना पड़ेगा। उनके टेस्ट की रिपोर्ट को देखने के बाद ही आगे जाने की इजाजत दी जाएगी।रमेश कुमार ने कहा कि जिन यात्रियों के पास कोरोना निगेटिव रिपोर्ट होगी, उन्हें ही भवन की ओर जाने दिया जाएगा।

पिट्ठुओं, पालकियों और खच्चरों की सुविधा नहीं
पिट्ठुओं, पालकियों और खच्चरों को शुरुआत में मार्ग पर चलने पर अनुमति नहीं होगी। सुविधा के लिए बैटरी चालित वाहनों, रोपवे और हेलीकॉप्टर जैसी सुविधाओं की व्यवस्था की गई है। कटरा से भवन जाने के लिए बाणगंगा, अर्धकुंवारी और सांझीछत के पारंपरिक मार्गों का इस्तेमाल किया जाएगा। भवन से आने के लिए हिमकोटि मार्ग-ताराकोट मार्ग का इस्तेमाल किया जाएगा।

इन्हें यात्रा न करने की सलाह
10 साल से कम आयु के बच्चों, गर्भवती महिलाओं, अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित लोगों और 60 साल से अधिक आयु के लोगों के लिए यात्रा नहीं करने का परामर्श जारी किया गया है। हालात सामान्य होने के बाद इस परामर्श की समीक्षा की जाएगी।