मोदी के कैबिनेट में फिर आएंगे डॉ. जितेंद्र सिंह, दिल्ली से आया ‘वेरी स्पेशल कॉल’

साल 2019 में मोदी सरकार 2.0 के मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए जम्मू-कश्मीर से डॉ जितेंद्र सिंह को भी ‘वेरी स्पेशल फोन कॉल’ आया है. डॉ जितेंद्र सिंह मोदी सरकार में फिर एक बार कैबिनेट का हिस्सा होंगे. डॉ जितेंद्र सिंह जम्मू-कश्मीर की उधमपुर लोकसभा सीट से सांसद हैं.

कर्ण सिंह के बेटे को हराया

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में डॉ जितेंद्र सिंह ने कांग्रेस के कद्दावर नेता डॉ कर्ण सिंह के बेटे विक्रमादित्य को हराया है. ये जीत इसलिए भी बड़ी हो जाती है क्योंकि विक्रमादित्य को नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी का समर्थन था. पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने उधमपुर सीट से अपना उम्मीदवार नहीं उतारा था, इसका कारण था वोट न कटें. इसके बावजूद डॉ जितेंद्र सिंह ने दूसरी बार उधमपुर की सीट पर भगवा फहरा दिया.

साफ सुथरी छवि और विकास कार्य कर गए कमाल


डॉ जितेंद्र सिंह अपनी साफसुथरी छवि और मोदी सरकार के पांच साल के विकास कार्यों के रिपोर्ट कार्ड के आधार पर चुनाव जीतने में कामयाब रहे. इससे पहले साल 2014 के लोकसभा चुनाव में डॉ जितेंद्र सिंह ने कांग्रेस के कद्दावर नेता गुलाम नबी आजाद को 60 हज़ार से ज्यादा वोटों से हराया था. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान मंत्रिमंडल गठन में डॉ. जितेंद्र सिंह को मोदी ने कैबिनेट में शामिल किया था. उन्हें मोदी सरकार में पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय के राज्यमंत्री, प्रधानमंत्री कार्यालय, परमाणु ऊर्जा विभाग तथा अंतरिक्ष विभाग में राज्यमंत्री का प्रभार दिया गया था.

6 किताबें भी लिख चुके हैं सिंह
पेशे से डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने चेन्नई के स्टैनली मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की डिग्री ली है. इसके अलावा वे लेखक, प्रोफेसर और कॉलमनिस्ट भी रहे हैं. वे अबतक 6 किताबें लिख चुके हैं, लेकिन राजनीति में उतरने के बाद उन्होंने जम्मू-कश्मीर से बीजेपी के मुख्य प्रवक्ता के तौर पर पार्टी की राय और विचारधारा सामने रखी है.