J&K: अपहृत जवान शाकिर मंजूर के परिवार की आतंकियों से गुहार, ‘अगर मार दिया है तो शव लौटा दें’

आतंकियों द्वारा अगवा किए गए सैन्य जवान शाकिर मंजूर का 38 दिन बाद भी कई सुराग नहीं लग पाया। परिवार और सेना तलाश में जुटी है। अब परिवार ने आतंकियों से अपील की है कि जवान को छोड़ दें। अगर मार दिया है तो उसका शव लौटा दें। ताकि वे उसे आखिरी बार देख सकें और दफन कर सकें। 

सैन्य जवान शाकिर मंजूर निवासी गांव रिझीपोरा का आतंकियों ने 2 अगस्त को अपहरण कर लिया था। कुलगाम गांव में उनकी कार जली मिली थी। 5 अगस्त को कपड़े शोपियां के लंढौरा इलाके में मिले थे। जवान के पारिवारिक सदस्यों ने कहा कि 2 अगस्त से उन्होंने घटनास्थल के आसपास के लगभग 60 किलोमीटर के इलाके को खंगाल दिया है लेकिन कोई सुराग नहीं लगा है।
बता दें, जवान के अपहरण के कुछ दिनों बाद एक ऑडियो संदेश भी वायरल हुआ था। इसमें खुद को आतंकी बताने वाले ने दावा किया था कि उन्होंने जवान को मारकर अज्ञात स्थान पर दफना दिया है। 

लेह की महिला का शव पाकिस्तानी रेंजरों ने लौटाया
वहीं, दूसरी ओर उत्तरी कश्मीर के सीमांत जिले कुपवाड़ा में एलओसी पर सेना को पाकिस्तानी रेंजरों ने एक महिला का शव सौंपा है। लेह की रहने वाली महिला का शव पीओके में बरामद हुआ था।