J&K: आतंकी हमलों से BJP नेताओं में दहशत, 24 घंटे में चार ने दिया पार्टी से इस्तीफा

एक तरफ भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) राम मंदिर भूमि पूजन ( Ram Mandir Bhoomi Pujan ) को लेकर देशभर में जश्न मना रही है तो दूसरी तरफ पार्टी नेताओं पर हमलों के बाद पिछले 24 घंटे में चार नेताओं ने इस्तीफा ( Four BJP Leader Resign ) देकर पार्टी की चिंता बढ़ा दी है। दरअसल जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में लगातार बीजेपी नेताओं पर हो रहे हमलों ने पार्टी के नेताओं में दहशत का माहौल है। यही वजह है कि चार नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया।

गुरुवार सुबह ही कुलगाम में बीजेपी के नेता और सरपंच सजाद के घर में घुसकर आतंकियों ने उन पर गोलियां बरसा दीं। अस्पताल में सजाद अहमद की मौत हो गई। इससे पहले भी एक अन्य सरपंच पर हमला हुआ।

जम्मू-कश्मीर में अब आतंकियों के निशाने पर भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं। दरअसल पिछले कुछ दिनों से घाटी में लगातार बीजेपी नेताओं पर हमले हो रहे हैं। इनमें कुछ नेताओं की मौत भी हो चुकी है।

इन चार नेताओं ने दिया इस्तीफा
कुलगाम के देवसर से बीजेपी सरपंच ने आज अपना इस्तीफा दे दिया। इससे पहले बीजेपी नेताओं सबजार अहमद पाडर, निसार अहमद वानी और आशिक हुसैन पाला ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था।

इन तीन नेताओं ने बताई ये वजह
दरअसल इस्तीफा देने वाले चार नेताओं में से तीन सबजार अहमद पाडर, निसार अहमद वानी और आशिक हुसैन पाला ने पार्टी छोड़ने के पीछे निजी कारण बताया है। उनका कहना था कि अब से उनका भारतीय जनता पार्टी से कोई नाता नहीं है। उनकी वजह से किसी भावना को ठेस पहुंची हो तो वे माफी चाहते हैं।

भले ही बीजेपी नेता अपने इस्तीफे की वजह साफ ना कर रहे हों, लेकिन इसके पीछे सरपंचों पर हो रहे आतंकी हमलों को ही बताया जा रहा है।

पिछले 24 घंटे में दो सरपंचों पर जानलेवा हमला, एक की गई जान। कुलगाम के काजीगुंड ब्लॉक के वेस्सु गांव में बीजेपी सरपंच सजाद अहमद पर गुरुवार सुबह आतंकियों ने हमला किया। गोली लगनके बाद सजाद को अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरोंने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

सजाद पर हुए हमले से कुछ घंटे पहले ही काजीगुंड अखरान में आतंकियों ने बीजेपी के नेता और पंच आरिफ अहमद पर जानलेवा हमला किया। इस हमले वे गंभीर रूप से घायल हो गए। हालांकि उनकी जान बच गई।

कहीं जानबूझकर तो नहीं अहमदाबाद के अस्पताल में लगाई गई आग, अब फॉरेंसिक टीम खोलेगी राज

आपको बात दें कि कुछ दिनों पहले ही बांदीपोरा में बीजेपी नेता वसीम बारी उनके पिता और भाई को दफ्तर के अंदर घुस कर आतंकियों ने हमला किया था। इस हमले में तीनों की मौत होगई थी। खास बात यह है कि इनकी सुरक्षा में 10 पुलिसकर्मी तैनात थे जो हमले के दौरान ड्यूटी पर नहीं थे। इस घटना के बाद 10 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड भी कर दिया गया था।