जम्मू कश्मीर: कोविड-19 कॉल सेंटर प्रैंक कॉलर्स की भेंट चढ़ा, 78 फीसदी कॉल फर्जी

24 घंटों के भीतर ही कश्मीर घाटी में शुरू किया गया कोविड-19 कॉल सेंटर प्रैंक कॉलर्स की भेंट चढ़ गया है. पहले 10 घंटों के भीतर आये 1100 कॉल में से 78 प्रतिशत कॉल फर्जी पाए गए हैं. कल ही जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल ने श्रीनगर में कोविड-19 इमरजेंसी रिस्पांस एंड मैनेजमेंट सेंटर और ऐप का उद्घाटन किया था. जिसके जरिये कोरोना मरीजों पर नजर रखने के साथ-साथ लोगों को कोरोना के बारे में जानकारी और मदद दिए जाने का प्रावधान है.

वहीं पहले दिन आये ज्यादातर कॉल करने वाले या तो मजा लेने के लिए कॉल कर रहे थे या फिर यह देखने के लिए कि क्या सरकार की ओर से दिया किया गया नंबर काम भी कर रहा है या नहीं. दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों से भी लोगों ने कॉल किए. श्रीनगर के डिप्टी कमिश्नर शाहिद इकबाल चौधरी ने ट्वीट कर इस पर चुटकी लेते हुए कहा कि पहले दिन ज्यादातर नंबर कॉल सेंटर को टेस्ट कर रहे थे.

इस सिस्टम के तहत कॉल सेंटर के अलावा एक मोबाइल ऐप है जिससे कोरोना के लक्षणों पर नजर रखी जा सकती है. मोबाइल एप के जरिये कुछ सवालों के जवाब दे कर अपने संक्रमित होने या ना होने के खतरे के बारे में घर बैठे जान सकते हैं जिस से अस्पतालों और मेडिकल कर्मियों के पर भार भी कम होगा.

सरकार ने लोगों को किसी भी तरह की जानकारी और मदद के लिए मोबाइल नंबर- 6006333308 जारी किया है. जिस पर कॉल करके लोग अपनी शिकायतें, मदद और कोरोना के बारे में जानकारी एक साथ हासिल कर सकते हैं.