जम्मू-कश्मीर : चुनाव से पहले शोपियां में 2 मोस्‍ट वांटेड आतंकी ढेर, 10 लाख का था इनाम

जम्मू-कश्मीर के शोपियां में मुठभेड़ में मारे गए तीन हिजबुल आतंकियों में से दो पर 10-10 लाख का इनाम रखा गया था. इस मुठभेड़ के बाद इलाके में हिंसक प्रदर्शन की बात सामने आ रही है. पूरे इलाके में इंटरनेट और रेल सेवा को ठप कर दिया गया है.

लतीफ टाइगर, जो बुरहान वानी ग्रुप का एकमात्र जिंदा आतंकवादी था, शुक्रवार को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के इमाम साहब क्षेत्र में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में अपने दो साथियों के साथ मारा गया.

सेना की 34-आरआर, सीआरपीएफ और एसओजी की संयुक्त टीम द्वारा आज सुबह तड़के इमाम साहब के अडखरा गांव में तलाशी अभियान शुरू की गई. पुलिस ने कहा है कि डोगरीपोरा, पुलवामा के लतीफ अहमद डार उर्फ टाइगर इस मुठभेड़ में मारा गया. दोनों 2014 से सक्रिय थे.

मारे गए दो आतंकवादियों की पहचान मुलू चित्रगम के तारिक मौलवी और शोपियां के चोतिगम के शारिक अहमद नेग्रो के रूप में हुई. पुलीस के मुताबिक़ “ये तीनों हिजबुल मुजाहिद्दीन आतंकवादी संगठन के सदस्य थे.’ इस अभियान में सेना के एक जवान को भी गोली लगी है.

लतीफ टाइगर के अलावा मौलवी तारिक भी बड़े पैमाने पर आतंकी गतिविधियों में शामिल था. पुलिस के मुताबिक, युवाओं को आतंक के रास्ते पर ले जाने में माहिर था. लतीफ और मौलवी को सुरक्षाबलों ने ए++ श्रेणी में रखा था. इनके ऊपर 10-10 लाख का इनाम भी रखा गया था.

आतंकवादियों की मारे जाने के विरोध में, युवाओं ने विरोध-प्रदर्शन किया. मुठभेड़ स्थल के पास सुरक्षाबलों के साथ भिड़ गए. पुलिस और अर्धसैनिक बल ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े. इसमें कई युवाओं के घायल होने की भी खबर है. मुदासिर अहमद मीर नाम के एक युवक को पैर में गोली लगी है. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है.