छठ महापर्वः आज डूबते सूर्य को दिया जाएगा अर्घ्य, 36 घंटे का निर्जला उपवास जारी

बिहार में चार दिवसीय महापर्व छठ बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। मंगलवार को छठ पर्व के तीसरे दिन सूर्य को सायंकालीन अर्घ्‍य दिया जाएगा। इसके साथ बुधवार को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ महापर्व का समापन होगा।

मंगलवार को ही अर्घ्य के लिए ठेकुआ का प्रसाद तैयार किया जाएगा। रविवार को नहाय-खाय के साथ इस पर्व की शुरूआत हुई। इसके बाद सोमवार को व्रतियों के घाटों पर स्नान करने के बाद दिनभर निर्जला व्रत रखकर शाम को खरना का प्रसाद भगवान को भोग लगाया। भगवान को भोग लगाने के बाद छठ व्रतियों ने खुद प्रसाद ग्रहण किया।

केवल छठ ही ऐसा पर्व है जिसमें अस्त होते सूर्य की पूजा होती है। डूबते सूर्य को प्रणाम करना यह दर्शाता है कि कल फिर से सुबह होगी और नया दिन आएगा। उदित सूर्य एक नए सवेरे का प्रतीक है।

छठ पर्व के चलते बिहार के बाजारों और घाटों में रौनक देखने को मिल रही है। बुधवार को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के बाद इस महापर्व छठ का समापन होगा। सरकार के द्वारा महापर्व छठ के चलते घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। इस पर्व में सफाई का भी विशेष ध्यान रखा जाता है।