पुलवामा हमला:आतंकी संगठनों ने बहुत बड़ी गलती की, इसकी कीमत उनको चुकानी पड़ेगी: PM मोदी

पुलवामा आतंकी हमले के बाद पहली बार बोलते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने सैनिकों की शहादत पर कहा, ”हर भारतीय की संवेदनाएं उनके साथ हैं. देश में आक्रोश है, लोगों का खून खौल रहा है. देश की अपेक्षाएं हैं. कुछ कर गुजरने की भावनाएं हैं. वो स्वाभाविक है. सुरक्षा बलों को पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गई है. हमले से लोगों का खून खौल रहा है. सुरक्षा बलों को अपनी कार्रवाई के लिए पूर्ण स्‍वतंत्रता दे दी गई है. आतंकी संगठनों ने बहुत बड़ी गलती की. इसकी कीमत उनको चुकानी पड़ेगी.”

उन्‍होंने कहा, ”आतंकी संगठनों और सरपरस्तों को कहना चाहता हूं कि वो बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं, उनको बहुत बड़ी कीमत चुकानी होगी. हमले के पीछे जो ताकतें हैं जो गुनाहगार हैं, उन्हें किए की सजा अवश्य मिलेगी. जो हमारी आलोचना कर रहे हैं उनकी भावनाओं का आदर करता हूं, उनको आलोचना करने का अधिकार है. सभी साथियों से अनुरोध है कि ये संवेदनशील और भावुक पल है पक्ष में या विपक्ष में- हम सब राजनीतिक छींटाकशी से दूर रहें. देश एकजुट हो कर मुकाबला कर रहा है. देश एक साथ है.”

उल्‍लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत की पहली इंजन रहित ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई. गुरुवार को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के कारण इस कार्यक्रम में कोई भी सजावट नहीं की गई. बेहद सादे समारोह में पीएम मोदी ट्रेन ने सिर्फ हरी झंडी दिखाई. पुलवामा हमले में शहीद हुए 44 सीआरपीएफ जवानों को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि भी दी गई. पुलवामा हमले के बाद इस कार्यक्रम में बदलाव किए गए हैं.

CCS की बैठक हुई
जम्मू कश्मीर के पुलवामा के अवंतिपोरा में हुए आतंकी हमले को लेकर प्रधानमंत्री आवास 7 लोक कल्याण मार्ग पर कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी (CCS) की अहम बैठक में पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का फैसला किया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में हुई इस बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, एनएसए अजीत डोवाल, खुफिया विभाग (आईबी) के उच्च अधिकारियों के अलावा तीनों सेनाओं के अध्यक्ष भी शामिल हुए. बैठक में सीआरपीएफ के डीजी पुलवामा आतंकी हमले के बारे में कमेटी (CCS) को जानकारी दी.

 

बैठक में फैसला किया गया कि आतंकियों के खिलाफ जवाबी करवाई के अलावा पुलवामा आतंकी हमले पर मोदी सरकार डोजियर तैयार करेगी जिसमे ये सबूत होंगे कि इस हमले के पीछे पाकिस्तान का हाथ है. इसके जरिये कूटनीतिक स्तर पर पाकिस्तान को अलग थलग किया जाएगा.

पाक से एमएफएन का दर्जा वापस
बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस को बताया, ‘आज पीएम मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी की बैठक हुई. बैठक में शहीदों के श्रद्धांजलि देने के लिए दो मिनट का मौन रखा गया था. पुलवामा की वास्तवित स्थिति का आंकलन किया गया. विदेश मंत्रालय आपको इस मामले में उठाए जाने वाले कदम के बारे में जानकारी समय समय पर देगा. भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा वापस ले लिया. वाणिज्य मंत्रालय इस संबंध में सूचना जारी करेगा. सुरक्षाबल सुरक्षा के पूरे कदम उठाएगी. जिन लोगों ने आतंकी वारदात को अंजाम दिया और जिन लोगों ने इसे समर्थन दिया है उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. सुरक्षाबल कड़े कदम उठाएंगे. गृह मंत्री कश्मीर जाएंगे और सभी राजनीतिक दलों के साथ चर्चा भी करेंगे.’

बैठक के बाद डीजी सीआरपीएफ और गृह मंत्री राजनाथ सिंह कश्मीर रवाना होंगे. राजनाथ सिंह घायलों से मिलने अस्पताल भी जाएंगे. इसके अलावा हमले की जांच के लिए 18 सदस्यीय CFSL टीम घटनास्थल जाएगी.   आज प्रधानमंत्री मोदी ने अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए गए. बीजेपी ने भी आज अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए है.

बता दें कि समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक पुलवामा आतंकी हमले में अब तक 44 सीआरपीएफ जवान शहीद हो चुके है, जबकि कई घायल जवान अभी भी अस्पताल में भर्ती है. ये हमला गुरुवार को जम्मू श्रीनगर हाईवे पर पुलवामा जिले के अवंतिपोरा में सीआरपीएफ (CRPF) के वाहन को निशाना बनाकर आईईडी ब्लास्ट (IED Blast) के जरिए किया गया. सीआरपीएफ के वाहनों पर यह हमला उस वक्त हुआ, जब सेना के जवानों का काफिला जम्मू से श्रीनगर की ओर जा रहा था.

हालात की गंभीरता को देखते हुए अधिकारियों ने कश्मीर घाटी और जम्मू में इंटरनेट सेवा पर फिलहाल रोक लगा दी है. इस काफिले में 78 वाहन शामिल थे, जिनमें 2500 सुरक्षाकर्मी सवार थे. आतंकियों ने इलाके में जवानों पर पहले गोलीबारी की और फिर उन पर कार के जरिये आईईडी ब्‍लास्‍ट किया.

सेना से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि 2001-02 में आतंकियों ने इसी तरह के फियादिन हमले को अंजाम दिया था. सेना का कहना है कि सेना ने जिस तरह से आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया है, उसमें उनकी बौखलाहट बढ़ गई है. इसी कारण उन्‍होंने आईएसआईएस की तर्ज पर ये हमला किया है.

जैश ने काफिले पर फिदायीन हमला करने वाले आतंकी आदिल ऊर्फ वकास का वीडियो जारी किया. वीडियो में दक्षिण कश्‍मीर के काकपोरा के रहने वाले वकास जैश के झंडे के आगे बैठा हुआ दिख रहा है. उसके सामने ग्रेनेड और अत्याधुनिक राइफल रखी हुई है.  वीडियो की शुरुआत करते हुए वकास कह रहा है, ‘जब तक यह वीडियो आप लोगों तक पहुंचेगा उस समय मैं जन्‍नत में मजे लूट रहा होऊंगा. मैंने जैश ए मोहम्‍मद में आतंकी के रूप में एक साल बिताया और यह मेरा कश्‍मीर के लोगों के लिए आखिरी मैसेज है.’