2019 भारतीय राजनीति के लिए है अहम साल, लोकसभा चुनावों के साथ इन बड़े राज्यों में भी होंगे इलेक्शन

साल 2018 का आज आखिरी दिन है. मंगलवार से नए साल की शुरुआत होगी. साल 2019 भारत की सियासत के लिए बेहद अहम साल है. इस साल देश में आम चुनाव होने हैं. इन्ही चुनाव के लिए सभी राजनीतिक दल और नेता 2019 में होनेवाले चुनावों को ध्यान में रखकर विशेष रणनीति के अनुसार काम कर रहे हैं. सत्ता पक्ष और विपक्ष इन चुनावों के लिए एडी-चोटी का दम लगा रहे हैं. 2019 में देश की जनता पीएम मोदी द्वारा पिछले 5 सालों में किए हुए काम का आंकलन करेंगे. 2014 आम चुनावों के बाद बीजेपी लगातार कई राजों में चुनाव जीती हैं. मगर, 2018 ख़त्म होते-होते उन्हें 5 राज्यों में नाकामयाबी मिली. कांग्रेस हिंदी बेल्ट के 3 राज्यों में जीती जिसके बाद उनके हौसले बुलंद हैं.

आपको बता दें कि अगले वर्ष अप्रैल और मई महीने में लोकसभा चुनाव हो सकते है. लोकसभा के 543 निर्वाचित सदस्यों को एकल-सदस्यीय निर्वाचन क्षेत्रों से मतदान द्वारा चुना जाएगा, जबकि देश के राष्ट्रपति एक अतिरिक्त दो सदस्यों को नामांकित करेंगे.

लोकसभा चुनावों के बाद ओडिशा, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा और सिक्किम में नई सरकार की गठन के लिए विधानसभा चुनाव कराए जाएंगे. राज्यपाल सत्यपाल मलिक द्वारा जम्मू एवं कश्मीर में विधानसभा भंग करने के कारण यहां चुनाव जल्दी हो रहे है.

ओडिशा, आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही हो सकते हैं. वहीं, महाराष्ट्र और हरियाणा में अक्टूबर में चुनाव होंगे. झारखंड में विधानसभा चुनाव दिसंबर में हो सकते हैं.