विदेशी जमातियों के वीजा में मिलीं गड़बड़ियां, 800 से ज्यादा पासपोर्ट जब्त

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज में आए विदेशी जमातियों की वीजा शर्तों में काफी गड़बड़ियां पाई गई हैं। विदेशी जमातियों ने वीजा नियमों का उल्लंघन किया है। 
इसके अलावा फर्जी वीजा पर विदेशी जमातियों के भारत आने के सुबूत भी मिले हैं। इसके लिए दिल्ली पुलिस ने विदेश मंत्रालय व दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच से रिपोर्ट मांगी है। इन विभागों को सभी विदेशी जमातियों का विवरण भेज दिया है।
अपराध शाखा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दिल्ली पुलिस ने अभी तक 800 से ज्यादा विदेशी जमातियों के पासपोर्ट जब्त किए हैं। ये जमाती दिल्ली में विभिन्न क्वारंटीन सेंटरों, अस्पतालों व मस्जिदों में थे। दिल्ली सरकार ने दिल्ली पुलिस को 567 विदेशियों की सूची अपराध शाखा को दी थी।अपराध शाखा के अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली सरकार ने विदेशी जमातियों की गलत रिपोर्ट दी है। विदेशी जमातियों की संख्या ज्यादा है। दिल्ली पुलिस ने विदेशी जमातियों के उनके देश जाने पर रोक लगा रखी है और सभी के खिलाफ एलओसी जारी कर रखी है।

वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि काफी विदेशियों से पूछताछ हो चुकी है। अभी तक की जांच में ये बात सामने आई है कि विदेशी जमातियों ने वीजा नियमों का उल्लंघन किया है। 

अधिकारी ने खुलासा किया है कि ज्यादातर विदेशी जमाती टूरिस्ट वीजा पर भारत आए थे, जबकि दिल्ली में वह जमात में शामिल हो गए। विदेशी जमातियों से पूछताछ व जांच में ये स्पष्ट हो गया है कि वह जमात के लिए ही दिल्ली आए थे। 

अपराध शाखा के अधिकारियों के अनुसार, विदेशी जमातियों से पूछताछ में ये देखा जा रहा है कि उन्होंने किन-किन वीजा नियमों का उल्लंघन किया है। विदेशी जमाती अपनी एंबेसी के जरिये अपराध शाखा की पूछताछ में शामिल हो रहे हैं।

मौलाना साद से कोई पूछताछ नहीं की

दूसरी तरफ अपराध शाखा ने अभी मरकज के मौलाना मोहम्मद साद से कोई पूछताछ नहीं की है। मौलाना साद जामिया नगर के जाकिर नगर (वेस्ट) में है। मौलाना साद ने अभी तक अपनी कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट भी पुलिस को नहीं सौंपी है। पुलिस अधिकारियों का ये भी कहना है कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच के बाद ही पुलिस मौलाना साद के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकती है।